मिडिल क्लास को मोदी सरकार ने दी बड़ी सौगात, अब आपको देना होगा इतना इनकम टैक्स

3248

बजट में सबकी नज़रें इस बात पर टिकी थी कि सरकार सैलेरी वालों के लिए क्या खुशखबरी ले कर आती है. सरकार ने उन्हें निराश भी नहीं किया. सरकार ने सैलेरी वालों को बड़ी खुशखबरी देते हुए इनकम टैक्स स्लैब का पूरी तरह से कायापलट कर दिया है.

मीडिया क्लास को बड़ी खुशखबरी देते हुए वित्त मंत्री ने ऐलान किया कि 5 लाख तक की आय पर कोई इनकम टैक्स नहीं देना पड़ेगा जबकि 5 लाख से 7.5 लाख तक की आय पर 10 पर्सेंट टैक्स लगेगा. पहले 5 से 7.5 लाख तक की आय पर 20 प्रतिशत इनकम टैक्स देना पड़ता था. 7.5 लाख से 10 लाख तक की आय पर 15 प्रतिशत इनकम टैक्स जबकि 10 लाख से 12.5 लाख की आय पर 20 पर्सेंट टैक्स लगेगा. यह पहले 30 प्रतिशत था.

वित्त मंत्री ने ऐलान किया कि 12.5 लाख से 15 लाख की आय 25 प्रतिशत और 15 लाख से ऊपर पहले की तरह 30% टैक्स लगेगा. फिक्स्ड सैलेरी उठाने वाले मिडिल क्लास के लिए इससे बड़ी खुशखबरी और कुछ नहीं हो सकती थी.

वित्त मंत्री ने कहा कि नई टैक्स व्यवस्था टैक्सपेयर्स के लिए वैकल्पिक होगा, इसमें कोई डिडक्शन शामिल नहीं होगा, जो डिडक्शन लेना चाहते हैं वो पुरानी दरों से टैक्स दे सकते हैं. इसके अलावा स्टार्टअप प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए टैक्स में भारी रियायत दी गई है. लाभ की 100% कटौती के लिए कुल कारोबार की सीमा 25 करोड़ से बढ़ाकर 100 करोड़ कर दी गई है. विद्युत क्षेत्र में निवेश के लिए नई घरेलू कंपनियों को 15% रियायती कॉर्पोरेट टैक्स देने का प्रस्ताव दिया गया है.