बजट 2020 : मोदी सरकार ने हेल्थ सेक्टर के लिए की बड़ी घोषणाएं, 2025 तक होगा इस बिमारी का खात्मा

648

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बजट पेश करते हुए स्वास्थ्य के क्षेत्र में कई बड़ी घोषणाएं की. उन्होंने कहा कि मिशन इंद्रधनुष 12 बीमारियों से लड़ता है. फिट इंडिया मूवमेंट भी चल रहा है. स्वच्छ भारत मिशन भी चल रहा है. पीएम जनआरोग्य योजना के तहत 20 हजार से ज्यादा अस्पताल पैनल में हैं. सरकार इसे और आगे बढ़ाएगी. पीपीपी मोड में अस्पताल बनाए जाएंगे. 112 आस्परेशनल जिलों में जहां इम्पैनल अस्पताल नहीं है उन्हें तवज्जो दी जाएगी. इससे बड़ी संख्या में रोजगार मिलेगा.

वित्त मंत्री ने कहा कि मेडिकल उपकरणों पर जो टैक्स लगता है उससे मिलने वाले पैसे का उपयोग अस्पताल बनाने में किया जाएगा. 2025 तक टीबी को भारत से ख़त्म करने के लिए ‘टीबी हारेगा, देश जीतेगा’ अभियान लांच किया गया है. डॉक्टरों की कमी को पूरा किया जाएगा. बजट में 69 हजार करोड़ रुपये हेल्थ सेक्टर के लिए आवंटित किया गया है.

इससे पहले वित्त मंत्री ने किसानों के लिए भी बजट में कई घोषणाएं की. उन्होंने अन्नदाता को ऊर्जादाता के रूप में विकसित करने के लिए 16 सूत्री कार्यक्रमों की घोषणा की. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण की शुरुआत करते हुए निर्मला सीतारमण ने पूर्व वित्त मंत्री और GST के शिल्पकार अरुण जेटली को श्रद्धांजलि देते हुए की. उन्होंने अपने बजट भाषण में कहा कि “मैं वर्ष 2020-21 का बजट पेश कर रही हूं. मई 2019 में मोदी जी ने प्रचंड बहुमत हासिल किया. भारत के लोगों ने केवल राजनीतिक स्थिरता के लिए नहीं बल्कि मजबूत अर्थव्यवस्था के लिए दिया है.’ उन्होंने कहा कि ये बजट लोगों की आय सुनिश्चित करने और उनकी क्रय शक्त बढ़ाने के लिए है. इस बजट को मोदी सरकार के ध्येय सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास को ध्यान में रख तैयार किया गया है.