बजट 2020 : किसानों के लिए मोदी सरकार ने की बड़ी घोषणाएं, इस तरह से बढ़ेगी किसानों की आय

1655

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज मोदी सरकार 2.0 का दूसरा बजट पेश किया. बजट भाषण की शुरुआत करते हुए निर्मला सीतारमण ने पूर्व वित्त मंत्री और GST के शिल्पकार अरुण जेटली को श्रद्धांजलि देते हुए की. उन्होंने अपने बजट भाषण में कहा कि “मैं वर्ष 2020-21 का बजट पेश कर रही हूं. मई 2019 में मोदी जी ने प्रचंड बहुमत हासिल किया. भारत के लोगों ने केवल राजनीतिक स्थिरता के लिए नहीं बल्कि मजबूत अर्थव्यवस्था के लिए दिया है.’ उन्होंने कहा कि ये बजट लोगों की आय सुनिश्चित करने और उनकी क्रय शक्त बढ़ाने के लिए है. इस बजट को मोदी सरकार के ध्येय सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास को ध्यान में रख तैयार किया गया है.

वित्त मंत्री ने किसानों का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि 2022 तक किसानों की आय दोगुनी की जाए. इसके लिए 16 सूत्री कार्यक्रम बनाया गया है. अन्नदाता की आय बढाने के लिए पशुपालन और मछली पालन पर ध्यान दिया जायेगा और उसे बढ़ावा दिया जाएगा. जहाँ भी खेती नहीं हो सकती उस बंजर जमीन पर सौर ऊर्जा उत्पादन की दिशां में कदम उठाये जायेंगे. अगर किसान के पास बंजर जमीन है तो सरकार उस जमीन पर सौर उर्जा प्लांट स्थापित करने में मदद करेगी. इससे किसान की आमदनी बढ़ेगी और अन्नदाता ऊर्जादाता भी बन जाएगा.

जल संकट से जूझ रहे 100 जिलों के लिए सरकार ख़ास योजना बनाएगी. 20 लाख किसानों को सिंचाई के लिए सोलर पंप दिया जाएगा. किसानों के लिए कुसुम योजना शुरू की जायेगी. 15 लाख किसानों तक सौर उर्जा पहुंचाई जायेगी. कृषि उड़ान योजना शुरू की जायेगी. दूध, मांस, मछली के लिए किसान रेल योजना की शुरुआत होगी. इसके अंतर्गत किसानों के लिए स्पेशल रेल चलेगी ताकि उनका प्रोडक्ट एक जगह से दूसरी जगह आसानी से और तेजी से पहुँच सके.