पश्चिम बंगाल में योगी आदित्यनाथ दौरा करके ही माने, अपनाया ये रास्ता!

266

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी लगातार बीजेपी नेताओं के रैलियों पर रोक लगा रही हैं. हेलीकाप्टर के लैंड करने की अनुमति नही दे रहे हैं. पहले 3 फरवरी को रैली का आयोजन हो जाने के बाद ममता दी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री का हेलीकाप्टर लैंड नही होने दिया था , दोबारा योगी पांच फ़रवरी को पशिचम बंगाल में रैली करने जा रहे थे लेकिन योगी के हेलीकाप्टर को लैंड नही होने दिया गया…. हालाँकि योगी भी ममता बनर्जी को जवाब देने के मूड में थे..उन्होंने ममता बनर्जी के इस तानाशाही रवैये का जवाब देने की ठान ली और उन्होंने ऐसा रास्ता खोज निकाला जिसकी काट मुख्यमंत्री ममता बनर्जी चाहकर भी नही निकाल सकीं…


दरअसल योगी आदित्यनाथ झारखंड के रास्ते पश्चिम बंगाल जाने का फैसला लिया और वे पहले हेलिकॉप्टर से झारखंड गये और फिर वहां से सड़क मार्ग के जरिए पश्चिम बंगाल पहुंचकर रैली को संबोधित किया. बोकारो से पुरुलिया की दूरी लगभग 54 किलोमीटर है और सड़क मार्ग से वहां पहुंचने में करीब सवा घंटे का समय लगता है. पुरुलिया पहुंचकर सीएम योगी ने ममता सरकार और उनके कार्यकर्ताओं पर पर जबरदस्त हमला बोला. सीएम योगी ने कहा कि जिस दिन भारतीय जनता पार्टी की सरकार बंगाल की सरकार आएगी उस दिन के बाद टीएमसी के गुंडे गले में पट्टा लगाकर चलेंगे, वैसे ही जैसे यूपी में सपा और बसपा के गुंडे पट्टा लटका कर चलते हैं और कहते हैं कि हमें बक्श दो हम किसी के साथ अन्याय नहीं करेंगे. एक साल पहले यहां जब मुहर्रम और दुर्गा पूजा एक साथ हुआ, उस समय मुहर्रम के चलते दुर्गा जी के विसर्जन पर रोक लगा दिया गया। बंगाल को एक अराजक और बेईमान सरकार से मुक्ति दिलानी है
इसके साथ ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी बंगाल के लिए जो भी पैसा देते हैं वो टीएमसी के गुंडे खा जाते हैं, गरीबों तक उनका हक नहीं पहुंच पाता है। टीएमसी की भ्रष्ट और अराजक सरकार में बंगाल में दुर्गा पूजा करने से रोका जाता है। लोगों को परेशान करने का काम किया जाता है.


पशिम बंगाल में चल रहे ड्रामे को लेकर भी योगी आदित्यनाथ ने ममता बनर्जी को भी आड़े हाथ लिया है उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी एक भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारी को बचाने के लिए धरना दे रही हैं. यह लोकतंत्र के लिए शर्म की बात हैं…
बीजेपी का कहना है कि जब अधिकारीयों से हेलीकाप्टर लैंड करने देने की वजह पूछी तो उन्होंने बताया कि ऊपर से दबाव हैं. अब सोचिये पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बीजेपी शाषित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बंगाल जाने से क्यों रोक रही हैं? क्या ममता बनर्जी को अपना जनाधार खिसकाता दिखाई दे रहा है? अरविन्द केजरीवाल को इजाजत और योगी के लिए इनकार क्यों?
वजह चाहे जो भी लेकिन मुख्यमंत्री किसी भी कीमत पर बीजेपी नेताओं को पश्चिम बंगाल में घुसने नही देना चाहती. भारतीय जनता पार्टी पश्चिम बंगाल में अपना जनाधार मज़बूत करना चाहती है इसलिए अपने स्टार प्रचारकों का दौरा अभी से शुरू करना चाहती हैं. हालाँकि ममता बनर्जी नेताओं को अनुमति से बचती नजर आ रही हैं.