एनडीए और एलजेपी के बीच तनातनी के बाद, एलजेपी को मिला इतने सीटों का ऑफर,चिराग पासवान पर टिकी सबकी निगाहें

47

बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है. फिलहाल बिहार के अंदर राजनीति दिन पर दिन ग’र’मा’ती जा रही है. नेताओं का दल बदलना भी शुरू हो चूका है. बिहार में हर पार्टी में सीट बंटवारे को लेकर खीं’च’ता’न भी अपने चरम पर है. अभी तक सीट शेयरिंग को लेकर किसी भी पार्टी ने अपने पत्ते नही खोलें हैं.वहीं दूसरी तरफ बिहार चुनाव को लेकर पहले चरण की 71 सीटों के लिए 1 अक्टूबर को अधिसूचना जारी हो जाएगी. इसके बावजूद भी नीतीश कुमार  के नेतृत्व वाले एनडीए में सीट शेयरिंग को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है. चिराग पासवान की एलजेपी नाराज़ चल रही है.

सूत्रों के अनुसार बीजेपी ने एलजेपी को 27 विधानसभा सीट और दो एमएलसी की सीटों का ऑफर दिया है. हालांकि, एलजेपी ने अभी तक आधिकारिक रूप से कुछ भी नहीं कहा है. ऐसे में एलजेपी ये ऑफर स्वीकार करती है कि नहीं इस पर सबकी नजर टिकी हुई है. बता दें की बीजेपी नें एलजेपी को जिन सीटों का ऑफर दिया है. वो हैं गोविंदगंज, बिस्फी, अररिया, बहादुरगंज, किशनगंज, अमौर, बलरामपुर, मधेपुरा, अलीनगर, केवटी, बरुराज, गरखा, परसा, लालगंज, राजपक्कड़, तेघड़ा, अलौली, कहलगांव, मनेर, ओबरा, कुटुंबा, बेलागंज, रजौली, सिकंदरा, जमुई और कटोरिया सीट शामिल है. 

इसके अलावा कहा ये भी जा रहा है कि एलजेपी के अंदर भी पार्टी में क’ल’ह मची हुई है. उसका कारण ये है कि एलजेपी के कुछ नेता बीजेपी का साथ नही छोड़ना चाहते है. वहीं एवजेपी ने भी ऐलान किया है कि अगर सीट को लेकर एनडीए से बात नही बनती है तो वो 143 सीटों पर अलग चुनाव लड़ सकती है. इस पूरे घटनाक्रम को देखने के बाद इंग्लिश की एक कहावत याद आती है. वो है ‘वेट एंड वॉच’.