कमाई के मामले में बीजेपी के आस पास भी नहीं कोई पार्टी, पिछले वित्त वर्ष में बीजेपी की कमाई में हुई इतने फीसदी की बढ़ोतरी

883

सत्ता के मामले में तो बीजेपी को दूर दूर को कोई टक्कर मिलती नहीं दिख रही है. अब कमाई के मामले में भी बीजेपी अजेय बनी हुई है. पार्टी की आमदनी और खर्च में जबरदस्त इजाफा हुआ है. वित्त वर्ष 2019-20 में बीजेपी की कमाई वित्त वर्ष वित्त वर्ष 2018-19 के मुकाबले बेतहाशा बढ़ी है. रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2019-20 में बीजेपी की कमाई 3,623 करोड़ रुपये रही जो 2018-19 के मुकाबले 50% ज्यादा है. वित्त वर्ष 2018-19 में बीजेपी की आमदनी 2,410 करोड़ रुपये थी. सिर्फ कमाई ही नहीं, खर्च के मामले में भी भाजपा के आस पास भी नहीं कोई पार्टी. चुनाव आयोग को दी गई जानकारी के मुताबिक बीजेपी ने वित्त वर्ष 2019-20 में 1,651 करोड़ रुपये खर्च किए, जबकि पिछले वित्त वर्ष में पार्टी का खर्च 1,005 करोड़ रुपये का रहा था. इस प्रकार एक साल में बीजेपी का खर्च करीब 64% बढ़ गया.

sorce – Times Of India

बीजेपी को सबसे ज्यादा आमदनी इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से हुई. वित्त वर्ष 2019-20 में बीजेपी को इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से 2,555 करोड़ रुपये की आमदनी हुई. जबकि वित्त वर्ष 2018-19 में पार्टी को इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से 1,450 करोड़ रुपये की आमदनी हुई थी. इस तरह से एक साल में बीजेपी की इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्सेयम से कमाई 76% बढ़ गई. पार्टी ने चुनावों पर खर्च क्रमशः 1,352 करोड़ और 792.40 करोड़ रुपये किए.

कांग्रेस पार्टी की इन दिनों राजनीति में जैसी स्थिति है, वैसी ही स्थिति कमाई के मामले में भी है. कांग्रेस पार्टी को वित्त वर्ष 2019-20 में 682 करोड़ रुपये की आमदनी हुई. बीजेपी की आमदनी में 50% का इजाफा हुआ तो कांग्रेस की आमदनी 25% घट गई. पिछले वित्त वर्ष में अकेले भाजपा की कमाई कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, एनसीपी, बीएसपी, सीपीएम और सीपीआई की कुल आय से तीन गुना से भी ज्यादा थी. वित्त वर्ष 2019-20 में भाजपा ने विज्ञापनों पर 400 करोड़ रुपये खर्च किए. बीजेपी ने अपने नेताओं और उम्मीदवारों की हवाई यात्राओं पर 250.50 करोड़ रुपये खर्च किए.