कर्नाटक के नए सीएम बने येदियुरप्पा, जेडीएस दे सकती है भाजपा को समर्थन

882

कर्नाटक में पिछले एक महीने से चल रहा सियासी घमासान आखिर कार थम गया. इस शुक्रवार को बी.एस येदियुरप्पा ने चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. जुलाई 29 को येद्दयुरप्पा विधानसभा में बहुमत साबित करेंगे. इसी बीच खबर आई की जेडीएस के कुछ विधायक भारतीय जनता पार्टी के समर्थन में खड़े हो गए हैं. अब जेडीए के विधायक पूर्व सीएम कुमारस्वामी से भाजपा को समर्थन देने का दबाव बना रहे हैं.

Source: Hamro Patro

जेडीएस के विधायकों की शुक्रवार रात हुई बैठक में उनके बीच के मतभेद सबको साफ़ नजर आ गए. कई विधायकों ने कुमारस्वामी को कर्नाटक में बीजेपी सरकार में शामिल होकर या बाहर से समर्थन देने की हिदायत दी है. लेकिन आखिरी फैसला तो  कुमारस्वामी को ही लेना है. भले ही भाजपा ने कर्नटक में अपनी सरकार बना ली हो, लेकिन कठिनाइयाँ कम नहीं हुई हैं.

31 जुलाई को येदियुरप्पा को सदन में सरकार गठन का दावा पेश करना है. यहाँ गौर करने वाली बात यह है कि कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर केआर रमेश कुमार ने अब तक सिर्फ तीन विद्रोही विधायकों को ही अयोग्य करार दिया है. उन्होंने कांग्रेस के दो बागी विधायक रमेश जर्किहोली व महेश कुमाताहल्ली के साथ साथ एक निर्दलीय विधायक आर. शंकर को तत्काल प्रभाव से हटा दिया था. इन तीनों के अलावा 14 और विधायकों के भविष्य का फैसला अभी तक नहीं हो पाया है. इसी वजह से भाजपा की तरफ से सरकार बनाने में कोई हड़बड़ी नहीं दिखाई दी और धैर्य के साथ सरकार बनाने का दावा पेश किया.

सदन के मौजूदा हालात पर गौर करे तो अभी भी 222 सदस्य की है ऐसे में भाजपा को सरकार बनाने के लिए आधे से ज्यादा यानि 113 विधायकों की जरूरत होगी. भाजपा के पास एक निर्दलीय सहित 106 विधायक है जो अभी भी बहुमत से कम हैं. अगर वो 14 विधायक अयोग्य साबित हो जाते हैं तो भाजपा फ्लोर टेस्ट में पास हो जाएगी.

Source: Times Of India

इतने के बाद भी ऐसा नहीं माना जा सकता की भाजपा का रास्ता साफ़ हो जाएगा, क्यूंकि आने वाले समय में उपचुनाव भी होने वाले है. अब उपचुनाव के बाद ही पता चलेगा की भाजपा कर्नाटक में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बना पाएगा या नहीं.