भाजपा में बदजुबान नेताओं पर लगाम लगाने की तैयारी

1018

बीजेपी को दिल्ली विधानसभा 2020 चुनाव में मुहं की खानी पड़ी. बीजेपी बुरी तरह से चुनाव हा’रने के बाद पार्टी ने हार की समीक्षा करना शुरू कर दिया है. भारतीय जनता पार्टी ने भड़’काऊ बया’नबजी करने को लेकर सक्त रुख अपनाने जा रही है. बीजेपी ने अपने नेताओं को बुलाया है जो भड़’काऊ बयानबाजी करते है या पार्टी लाइन से हट कर बोलते है. जिससे बीजेपी को चुनाव में नुक’सान उठाना पड़ता है. नेताओ को लगता है कि इस तरह की बयानबाजी जनता को लुभाने के काम आएगी. लेकिन इस बार ये दावं चुनाव में उलटा पड़ता नज़र आ रहा है.

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी के आलाकमान के साथ बैठक करके उन नेताओं को तलब किया है. जिन नेताओं को बोलने में अपनी जुबान पर काबू नही है. जेपी नड्डा ने ‘देव’बंद को आ’तंक की गंगोत्री’ बताने वाले बयान पर पार्टी के फा’यर ब्रैंड नेता गिरिराज सिंह को शनिवार को त’लब किया और स’ख्‍त चेता’वनी दी है और कहा है की ऐसे बयानो से बचने की कोशिश की जाये. जेपी नड्डा ने यह कदम ऐसे समय पर उठाया है. जब खुद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सार्वजनिक तौर पर ये स्‍वीकार किया था कि ‘देश के गद्दा’रों वाले बयान को लेकर’ और ‘भारत-पाक मैच’ जैसे बयानों से पार्टी को दिल्‍ली चुनाव में भारी नु’कसान उठाना पड़ा है.

दिल्ली चुनाव में कई नेता अपनी चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कई बार भड़’काऊ ब’यान देते है. जिसमे केंन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर हो या फिर कपिल मिश्र जो दिल्ली चुनाव में मॉड़ल टाउन से बीजेपी के उम्मीदवार थे. इन दोनो नेताओ ने भड़’काने वाले बयान दिये थे. इसी को लेकर बाजेपी दिल्ली चुनाव हार गई है. ऐसा मनना है बाजेपी का और इस तरह के बया’नबाजी से बचने की जरुरत है.