उत्तरप्रदेश के रामपुर में इस समय सियासी भूचाल आ गया है. रामपुर से सांसद और सपा सरकार में मंत्री रहे आजम खान को इन दिनों एक के बाद एक बड़ा झटका लगता जा रहा है. आजम खान अपने बेटे अब्दुल्ला आजम और पत्नी तन्जीन के साथ इन दिनों सीतापुर जेल में हैं. दरअसल उनपर फर्जी प्रमाणपत्र दिखाने के मामले में मुकदमा चल रहा है. इसी बीच एक और बड़ी खबर यूपी के रामपुर से आ रही है.

जानकारी के लिए बता दें 2019 लोकसभा चुनाव में रामपुर सीट से सपा प्रत्याशी आजम खान को बीजेपी की तरफ से चुनौती देने वाली भाजपा नेता और अभिनेत्री जया प्रदा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. यूपी की एक कोर्ट ने जया प्रदा के खिलाफ चुनाव के दौरान आचार संहिता तोड़ने के चलते गैर जमानती वारंट जारी कर दिया है. इस मामले की अगली सुनवाई 20 मार्च को की जाएगी.

लोकसभा चुनाव के दौरान रामपुर सीट का चुनाव बेहद ही चर्चा में रहा था. आजम खान और जया प्रदा के बीच इस चुनाव में जमकर जुबानी जंग चली थी. अपने एक बयान के चलते आजम खान की जमकर फजीहत हुई थी और लोगों ने उनपर जमकर निशाने साधे थे. महिला नेता जया प्रदा के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने पर आयोग ने भी आजम को नोटिस जारी कर दिया था.

गौरतलब है कि एक समय था जब आजम खान ने ही जया प्रदा की एंट्री सपा में करवाई थी. जया प्रदा का राजनीतिक करियर साल 2004 में तेलगु देशम पार्टी TDP से हुआ था. इसी साल उन्होंने समाजवादी पार्टी ज्वाइन की. इस दौरान उन्होंने आजम के गढ़ रामपुर से सपा से चुनाव लड़ा और 85000 वोटों से जीत भी हासिल भी की थी. ऐसा भी कहा जाता है कि आजम खान ने उन्हें चुनाव जिताने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई साथ ही पार्टी में भी एंट्री करवाई थी. कुछ समय तक रिश्ते सामान्य रहे और अब हाल ये है कि दोनों एक दूसरे के धुर विरोधी हैं.