उद्धव ठाकरे के हिंदुत्व पर बीजेपी ने एक बार फिर उठाये सवाल, कहा ‘सावरकर की प्रशंसा पर…

32

जब से महाराष्ट्र में उध्दव सरकार बनी है तबसे क’ट’घ’रे में खड़ी नज़र आ रही है. बालासाहब ठाकरे के समय से हिन्दूत्व को मानने वाली शिवसेना और आज की शिवसेना पूरी तरह से बदल चुकि है. उध्दव ठाकरे ने सत्ता के मोह के लिए अपना हिन्दुत्व का भी परि’त्या’ग कर दिया है.

महाराष्ट्र सरकार बनने के बाद से पालघर में साधुओं की ह’त्या कर दी गई थी. जिसपर उध्दव सरकार पूरी तरह से चुप्पी साध रखी थी. कुछ दिन बाद सुशांत के मै’टर को लेकर भी उध्दव सरकार ने कोई भी का’र्या’वा’ई नही की थी. उसके बाद से बीजेपी और कई बॉलिवुड के लोगों ने उनपर नि’शा’ना साधा था. अब एक बा फिर से उध्दव सरकार पर हिन्दुत्व को लेकर बीजेपी ने उनपर ती’खा ह’म’ला बोला है.

बीजेपी नेता राम कदम ने ट्वीट करते हुए उद्धव पर नि’शा’ना साधा. उन्होंने कहा, ‘शिवसेना ने द’श’ह’रा रैली सावरकर सभागार से आयोजित करके हिंदुत्व पर सीख दी. सवाल यह है कि सीएम उद्धव वीर सावरकर की प्रशंसा का एक भी शब्द क्यों नहीं बोले? शायद वो अपने नए दोस्तों से ड’र’ते हैं जो वीर सावरकर के खि’ला’फ अ’प’मा’न’ज’न’क ब’या’नों का बार-बार इस्तेमाल करते रहे हैं.’

महाराष्ट्र बीजेपी के प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने आ’रो’प लगाया कि ठाकरे के पास शि’व’सै’नि’कों को अपनी सरकार के काम के बारे में बताने के लिए कुछ भी नहीं था. उन्होंने कहा, ‘सत्ता के लिए शिवसेना ने हिंदुत्व से समझौता किया. उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस के सावरकर की आ’लो’च’ना पर एक भी शब्द नहीं बोला और उन्हें सावरकर स्टेडियम से दशहरा रैली को संबोधित करना पड़ा. यह आदर्श न्याय है.’