इस मंत्री ने बेटे को टिकट मिलने पर की इस्तीफ़े की पेशकश

259

लोकसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने 20वीं लिस्ट जारी की है, जिसमें 6 सीटों पर प्रत्याशियों के नामों का ऐलान किया गया है। बीजेपी ने हरियाणा के हिसार से केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह के बेटे बृजेंद्र सिंह को टिकट दिया है..इस ऐलान के बाद बीरेंद्र सिंह ने कैबिनेट से इस्तीफा देने की पेशकश की है..सिंह ने परिवारवाद के खिलाफ स्टेटमेंट देने के लिए ऐसा फैसला किया है..

दरअसल, केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने रविवार को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को कैबिनेट और राज्यसभा से इस्तीफा देने की पेशकश की है. बताया जाता है चौधरी ने ये फैसला उनके बेटे बृजेन्द्र सिंह को हरियाणा के हिसार से लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए टिकट मिलने के मद्देजनर लिया है..

चौधरी बीरेंद्र सिंह ने कहा, बीजेपी चुनाव में वंशवादी शासन के खिलाफ है. सलिए मैंने यह सही समझा कि अगर मेरे बेटे को मौका मिलता है तो मुझे राज्यसभा और मंत्रीपद से इस्तीफा दे देना चाहिए. इसलिए मैंने अमित शाह जी को लिखा है कि मैं इसे पार्टी पर छोड़ता हूं, मैं इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं..

केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह हरियाणा के एक प्रमुख जाट नेता हैं. वे 1977, 1982, 1994, 1996 और 2005 में उचाना से विधायक रह चुके हैं. साथ ही तीन बार प्रदेश सरकार में मंत्री रहे हैं. वे हिसार लोकसभा क्षेत्र से 1984 में ओमप्रकाश चौटाला को हराकर संसद पहुंचे थे.

2010 में वे कांग्रेस से राज्यसभा सदस्य बने थे, लेकिन 2014 में कांग्रेस से 42 साल पुराना नाता तोड़कर राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद बीजेपी का दामन थामा था. बीजेपी 2016 में उन्हें दोबारा राज्यसभा भेजा था.  5 जुलाई, 2016 को कैबिनेट फेरबदल में इस्पात मंत्री के रूप में पदभार संभाला..

वही, केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह के बेटे बृजेन्द्र सिंह एक IAS अधिकारी हैं..

47 वर्षीय बृजेंद्र सिंह इस समय HAFED के MD हैं। बृजेंद्र सिंह वर्ष 1998 में 26 साल की उम्र में IAS बने थे। उनकी रिटायरमेंट वर्ष 2032 में होनी है, लेकिन अब वह नामांकन से पूर्व स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर राजनीतिक पारी की शुरुआत करेंगे। बृजेंद्र सिंह चंडीगढ़, पंचकूला और फरीदाबाद में डीसी भी रह चुके हैं..

ऐसा कहा जा रहा है कि चौधरी बीरेंद्र सिंह परिवारवाद को बढ़ावा नहीं देना चाहते हैं..और यही वजह है कि उन्होंने अपने इस्तीफे की खुद पेशकश की है..