भूपेश बघेल साहब “छोटा आदमी” लिख लेने कोई छोटा नही बन जाता, मुहिम के चक्कर में आप मजाक बन रहे हैं

431

चुनाव के समय सोशल मीडिया कितनी महत्वपूर्ण हो जाती है ये बा बात हम पिछले कुछ चुनाव में रानीतिक पार्टियों की सक्रित्य्ता से समझ सकते हैं. सोशल मीडिया पर चौकीदार चोर हैं, मैं भी चौकीदार जैसे मुहिम चलाये गये हैं इसमें सफलता भी मिली. लेकिन एक नया अभियान सोशल मीडिया पर शुरू होने से पहले फ्लॉप गया है. छत्तीसगढ़ में इस समय सियासी बवाल मचा हुआ है. दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिह ने मौजूदा मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपेस बघेल छोटा आदमी कह दिया.. रमन सिंह भूपेश बघेल पर मीडिया के किसी सवाल पर जवाब दे रहे थे… इसी दौरान रमन सिंह ने उन्हें छोटा आदमी क्या कह दिया.. भूपेश बघेल को लगा कि अब तो मिल गया मुद्दा बीजेपी को घेरने का… आपको बता दें कि भूपेश बघेल ने सोशल मीडिया ट्वीटर पर अपना नाम छोटा आदमी भूपेश बघेल लिख लिया.. उन्हें लगा होगा कि उन्हें इस मुहिम में लोगों का तगड़ा समर्थन मिलेगा.. ठीक उसी तरह जैसे कुछ लोगों ने अपने नाम के आगे बेरोजगार लगाकार सरकार का विरोध किया था और बहुत लोगों ने अपने नाम के ही आगे चौकीदार लिखकर पीएम मोदी का समर्थन किया था.. लेकिन ऐसा कुछ हुआ ही नही.. सिर्फ एक मंत्री एक मंत्री भूपेश बघेल के इस मुहिम में शामिल हुआ..

मंत्री ने अपने नाम के आगे छोटा आदमी लिखा.. आपको यहाँ यह भी बता देना चाहते हैं कि छोटा आदमी नाम लिखकर भूपेश बघेल गरीबों का समर्थन हासिल करना चाहते थे उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि छत्तीसगढ़ में छोटे आदमियों की, छोटे आदमियों के लिए, छोटे आदमियों द्वारा चुनी गई छोटे आदमियों की सरकार है। अब यही छोटे आदमियों का जनसमूह छत्तीसगढ़ से 11 छोटे आदमियों को अपनी आवाज़ बनाकर संसद भेजेगा और ‘बड़े आदमी’ बस बड़े-बड़े जुमले ही फेंकते रह जाएंगे।

दरअसल यहाँ वे अपने इस मुहिम को चौकीदार मुहिम की तरह हिट करना चाहते हैं लेकिन ये मुहिम सुपर डूपर फ्लॉप साबित हो गयी. वैसे छोटे आदमी भूपेश बघेल कितने छोटे हैं क्या आप ये बात जानते हैं.. नही तो आइये हम भूपेश बघेल के मंत्री मंडल के कुछ छोटे आदमियों के बारे में बताते हैं. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनकी कैबिनेट के सभी 12 मंत्री करोड़पति हैं, जबकि दो मंत्रियों ने धोखाधड़ी और जालसाजी के आरोप साथ कई आपराधिक मामलों का सामना किया है। एडीआर नामक एक चुनावी पर निगरानी करने वाली संस्था के मुताबिक़ सभी कैबिनेट मंत्री करोड़पति हैं, जिनकी औसत संपत्ति 47.13 करोड़ दर्ज किया गया है.. सबसे अमीर मंत्री हैं टी.एस. सिंह देव, जिनकी संपत्ति 500 करोड़ से अधिक है, जिसके बाद मुख्यमंत्री बघेल का नंबर है, जिनके पास 23 करोड़ से अधिक की संपत्ति है। अब भाई जब छोटा आदमी होने के लिए इतने पैसों की जरूरत हैं तो भाई मैं भी जरूर बनना चाहूँगा.. वैसे छोटा आदमी वाला मुहिम भूपेश बघेल के लिए उलटा साबित हो गया.. और सम्पत्ति के जो आकडे हमने आपको बताएं वो उन्हें छोटा आदमी मानने पर फिट नही बैठ रहे हैं.

करोड़ो की सम्पत्ति लेकर नाम के आगे छोटा आदमी लिख लेने से भूपेश बघेल गरीबों को अपने पाले में लाने की कोशिश कर रहे हैं. रमन सिंह द्वारा कहे गये “छोटा आदमी है” को एक मुहिम बनाने के चक्कर में खुद बघेल ने अपनी खिल्ली उड़वा ली है.