पति से झ’गड़ा के बाद महिला ने अपने 5 ब’च्चों को नदी में फें’क दिया, लेकिन वामपंथियों ने फैलाया झूठ

5342

कोरोन से देश को बचाने के लिए पीएम मोदी ने 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया था. लेकिन वामपंथियों ने इसके खिलाफ प्रोपगैंडा फैलाना शुरू कर दिया है. वामपंथियों की शुरू से ही कोशिश रही है कि लॉकडाउन को फेल करके देश को ख’तरे में डाला जाए. इसलिए जब उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में एक महिला ने पति से झगड़े के बाद अपने 5 बच्चों को गंगा नदी में फें’क दिया तो वामपंथियों ने उसे लॉकडाउन और भूख से जोड़ कर मोदी सरकार और राज्य की योगी सरकार को बदनाम करने का ठेका उठा लिया.

इस घटना के सामने आने के बाद वामपंथी गैंग एक्टिव हो गया और इसके पीछे पीएम मोदी के लॉकडाउन के ऐलान को कारण बता दिया. एक -दो वामपंथी नहीं बल्कि पूरा का पूरा गैंग एक्टिव हो गया. मोदी सरकार के हर फैसले के खिलाफ कोर्ट चले जाने वाले और फेक न्यूज फैलाने में पीएचडी कर चुके वकील प्रशांत भूषण, कविता कृष्णन, आज तक से निकाले जाने के बाद मोदी सरकार के खिलाफ ज़हर उगलने वाले पूण्य प्रसून वाजपेयी, प्रोपगैंडा वेबसाईट द क्विंट वगैरह ने जम कर इस फेक न्यूज को फैलाय. लेकिन जल्द ही उनके झूठ की पोल खुल गई.

भदोही पुलिस ने महिला को गि’रफ्तार कर लिया और वामपंथियों के प्रोपगैंडा की हवा निकल गई. लेकिन अगर अपने झूठ को स्वीकार कर ले तो उसके वामपंथी होने पर लानत है. इसलिए अपने झूठ को जी भर कर फैलाने के बाद वामपंथी गैंग का उद्धेश्य पूरा हो चुका था इसलिए पुलिस द्वारा सच बताये जाने से उनको कोई मतलब नहीं था. उनका मतलब तो बस सरकार के खिलाफ प्रोपगैंडा फैलाना था. भदोही पुलिस ने कहा कि वो महिला अपने पति से झगड़े के कारण मानसिक तनाव में थी इस वजह से ऐसा कदम उठाया. लॉकडाउन की वजह से भोजन की कमी की बात गलत है. हमने उस महिला का बयान लिया और उसके घर जा कर भी जांच की.