CAB के खिलाफ सुल’गा बंगाल, वामपंथी मीडिया का प्रोपगैंडा कामयाब

1257

नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ शुक्रवार को पश्चिम बंगाल ज’ल उठा. जगह जगह ट्रेनों पर पथ’राव किये गए और स्टेशनों को जला’या गया. इन घटनाओं के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं और वामपंथी मीडिया का गिरोह इन्हें शांतिपूर्ण प्रदर्शन साबित करने पर तुला हुआ है.

वायरल हो रहे वीडियो में पश्चिम बंगाल के एक स्टेशन पर ट्रेन को घेर कर रोकने की कोशिश की जाती है. लेकिन ड्राईवर ने हालात को देखते हुए सूझबूझ से काम लिया और ट्रेन की स्पीड बढ़ा दी वरना कोई भी अनहोनी हो सकती थी. एक अन्य वायरल वीडियो में रेल पटरियों पर अवरोधक रख कर ट्रेन को दुर्घट’नाग्रस्त करने की कोशिश होती है. जबकि एक अन्य स्टेशन को आ’ग की लपटों के हवाले कर दिया गया. और ये सब होता रहा नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ. और इतना हिंस’क प्रदर्शन का कारण है इस बिल के बारे में वामपंथी मीडिया का प्रोपगैंडा.

ये बिल पाकिस्तान, बंगलादेश और अफगानिस्तान के अल्पसंख्यक लोगों को भारत की नागरिकता देने के बारे में है जबकि वामपंथी मीडिया ने इस बिल कि व्यक्ख्या ऐसी कर दी है कि इस बिल के जरिये देश से मुसलमानों को भगाया जा रहा है. इतना सब करने के बाद हिं’सक प्रदर्शनों को शांतिपूर्ण साबित करने की भी कोशिश की जा रही है.

वामपंथी मीडिया देश में हिं’सा फैलाने की जुगत में बहुत पहले से लगा है. कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाया गया तब भी कश्मीर के बारे में गलत अफ’वाहें फैला कर देश में हिं’सा भड़काने की कोशिश की गई थी. जब अयोध्या मामले पर फैसला आया तब भी ऐसी कोशिशें की गई लेकिन सफलता नहीं मिली लेकिन अब नागरिकता संशोधन बिल पर आखिरकार सफलता मिल ही गई. बंगाल हिं’सा की आ’ग में जल रहा है.