प्रेम के चक्कर में दलित युवक की हुई हत्या, 6 महिने बाद भी नहीं मिल रहा न्याय

655

कहानी ऐसी जो रुह कपां दे..प्यार करने की सजा..ऐसी भयानक मौत मिली कि सुन कर मन ठंडा पड़ जाता है..लेकिन इस हत्या में 6 महीने बाद भी, अभी तक पीड़ित परिवार को न्याय का इंतजार है..

मामला 16 अगस्त 2018 का है..एक दलित हिंदू युवक संजय ने एक मुस्लिम महिला से शादी करने और अपने परिवार का धर्म परिवर्तित करने की माँग को, स्वीकार न करने की कीमत अपनी जान देकर चुकाई। मुस्लिम युवती के परिवार वालों ने युवक की ऐसी हत्या की जिसे सुन रौंगटे खड़े हो जाएंगे..

संजय के मौत के बाद उसका परिवार अकेला पड़ गया है और मदद की गुहार लगा रहा है..संजय की मां मंजू, मानसिक रूप से विकलांग नाबालिग भाई और एक बहन सहित, पूरा परिवार न केवल आर्थिक संकट से जूझ रहा है, बल्कि संजय के लिए न्याय की लड़ाई में भी खुद को बेसहारा महसूस कर रहा है।

आईए इस दिल दहला देने वाली घटना को जानते है…

कहानी फरीदाबाद के नेहरू कॉलोनी की है..जहां संजय नाम के एक शख्स ने अपने पड़ोस में रह रही एक मुस्लिम लड़की रुखसार से शादी की थी और ये शादी ही उसकी हत्या की वजह बनी..लड़की के घरवाले इस शादी के खिलाफ थे..इसके बाद इन दोनों ने राजस्थान जाकर शादी रजिस्टर्ड करा ली और वहीं रहने लगे. इसके बाद लड़की के घरवालों ने इन्हें फरीदाबाद बुलाया और अलग किराए पर कमरा दिला दिया. इसी बीच रुखसार के घरवाले उनसे मिलने लगे..

धीरे धीरे लग रहा था सब ठीक हो गया. इसी बीच संजय ने अपने घरवालो को बताया कि उसके ससुराल वाले उसे मुस्लिम बनने के लिए दबाव डाल रहे है लेकिन उसने मुस्लिम धर्म अपनाने के लिए मना कर दिया..इसके बाद लड़की ने तलाक की मांग की और दो महीने पहले दोनों का तलाक हो गया..दोनों अलग रह रहे थे लेकिन फोन पर बात करते रहते थे. इसी बीच संजय वापस राजस्थान चला गया..लेकिन रुखसार ने फोन करके संजय को फरीदाबाद ये कहकर बुलाया कि उसके पिता फजरुद्दीन खान और भाई सलीम खान मान गए हैं. ईद पर वो उसे विदा कर देंगे. संजय 15 अगस्त को फरीदाबाद आया और लड़की के भाई सलीम से मुलाक़ात की..अगले दिन 16 अगस्त को सलीम संजय के घर आया और घूमने का बहाना करके उसे अपने साथ ले गया..

शाम तक जब संजय घर नहीं आया तो संजय की मां लड़की के घर पहुचीं, लेकिन उन्होंने संजय के बारे में कुछ नहीं बताया..जिसके बाद वह पुलिस के पास पहुचीं और आरोप है कि पुलिस ने भी मदद नहीं की..करीब 5 दिन बाद  21 अगस्त को संजय का शव घर के पास मौजूद जंगल से बरामद हुआ.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, जब संजय का 5 दिनों बाद सड़ी हालत में शव मिला..तो उसके साथ क्रूरता की सारी हदें पार कर दि गई थी..लड़के का फेफड़ा गायब था..उसके लिंग को काट दिया गया था..यहाँ तक कि आँखे भी निकाल ली गई थी..उसके कई दांत गायब थे..उसे बाँध कर घसीटा गया था..कुछ स्थानों पर त्वचा को बुरी तरह से छील दिया गया था..इतनी क्रूरता की गई थी जिसे हम आपको पूरा बता भी नहीं सकते..

इस मामले में पुलिस ने रुखसार के भाई सलीम और उसके पिता समेत कुछ लोगो को गिरफ्तार किया है..जिसके बाद उन्होंने अपना जुर्म कबूल लिया कि वो इस शादी के खिलाफ थे, इसलिए उन्होंने संजय की हत्या कर दी..संजय के परिवार का कहना है कि रुखसार ने शादी के बाद खुद हिन्दू रीत रिवाज निभाने शुरू कर दिए थे, लेकिन उन्होंने कभी लड़की को धर्म बदलने के लिए नहीं कहा..

बेचारे संजय की इसमें क्या गलती थी..किसी गैर धर्म की लड़की को अपना दिल दे देना..या फिर उस लड़की के घरवालों पर यकीन कर उसके घर जाना..मामले के 6 महीने बाद भी संजय के परिवार वालों को इंसाफ नहीं मिला है..और वो दर-दर की ठोकरे खा रहा है…

हालांकि, इस मामले में मरने वाला हिन्दू है इसलिए इस मामले को ज्यादा उछाला नहीं गया…हल्ला बोल मीडिया ने भी इसे कोई खास कवरेज नहीं दिया..और न ही इस मामले में कोई ऑवार्ड वापसी गैंग सामने आया..