वर्ल्ड कप जीतने के बाद बंगलादेशी टीम ने की ऐसी हरकत, खेल को किया शर्मसार

2835

अंडर 19 वर्ल्ड कप का फाइनल रविवार को भारत और बांग्लादेश के बीच में खेला गया था. जिसमे बांग्लादेश ने टॉस जीत कर पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया था. पहले बल्लेबाजी करते हुए भारतीय टीम ने कुल 177 बनाये थे और बांग्लादेश को जीतने के लिए 178 रन की जरुरत थी.

क्रिकेट एक ऐसा खेल है. जिसमे प्लेयर्स को लेकर एक दुसरे से तू-तू मैं- होती रहती है. यही कल देखने को मिला भारत और बांग्लादेश के बीच खेले गए अंडर 19 वर्ल्ड कप में जिसमे बांग्लादेश ने भारत को 3 विकेट से हरा दिया, और पहली बार अंडर 19 वर्ल्ड कप अपने नाम किया. मैच जीतने के बाद बांग्लादेश टीम के खिलाड़ियों ने मैच के बाद भारतीय टीम के प्लेयर्स के साथ बेहूदगी करते नजर आये.

क्रिकेट भद्रजनों का खेल कहा जाता है. हम क्रिकेट के मैदान पर अक्सर खेल भावना की मिसाल देखते रहे हैं. लेकिन कल कुछ और ही देखने को मिला. जब बांग्लादेशी खिलाड़ियों ने न केवल भारतीय क्रिकेटर्स के साथ धक्का-मुक्की की, बल्कि उन्हें गालियां भी दीं. यहां तक कि ‘बैट’ और स्टंप लेकर भारतीय खिलाड़ियों की ओर आक्रामक तरीके से आगे बढ़े. ये सारा वाकया मैदान के बीचो-बीच पिच पर मैदानी अंपायरों के सामने हुआ.

बांग्लादेश ने मैच जीतने के बाद उनके  सभी खिलाड़ी जश्न मनाने के लिए भागकर पिच पर पहुंच गए. मगर इनमें से कुछ खिलाड़ी भारतीय क्रिकेटर्स  पर आपत्तिजनक कमेंट करने लगे. भारतीय खिलाड़ियों ने इस पर ऐतराज जताया, जिसके बाद बांग्लादेश के खिलाड़ी भारतीय खिलाड़ियों पर और आक्रामक हो गए. इससे मैदान पर बेहद ही गंभीर स्थिति बन गई थी. बांग्लादेशी खिलाड़ी भारतीय क्रिकेटर्स से धक्का-मुक्की करने लगे और उन्हें गालियां दीं. यहां तक कि कुछ खिलाड़ी तो ‘बल्ला और स्टंप’ लेकर भारतीय क्रिकेटरों की ओर बेहद आक्रामक तरीके से बढ़े. इस दौरान टीम इंडिया के कोच पारस महाम्ब्रे भारतीय खिलाड़ियों को शांत कराकर अलग ले जाते दिखे.

इस मुद्दे के बाद भारतीय टीम अंडर 19 के कप्तान प्रियम गर्ग ने कहा कि ‘हम सहज थे. हमें लगता है कि हार-जीत खेल का हिस्सा है’. कई बार आप जीतते हैं तो कई बार हार का सामना करना पड़ता है. मगर बांग्लादेश के खिलाड़ियों का व्यवहार गंदा था. मुझे लगता है कि ऐसा नहीं होना चाहिए था.’
इस पुरे मैटर के बाद इससे क्रिकेट भावना की अवहेलना की है जो की पूरी तरह गलत है. इसके ऊपर ICC को कोई न कोई कार्यवाई करनी चाहिए बंगलादेशी खिलाड़ियों पर जिन्होंने खेल भावना का उलंघन किया है.