पाकिस्तान से आज़ादी दिलाने के लिए पीएम मोदी से मदद मांगने ह्यूस्टन पहुंचे बलूच और सिंधी

1382

पीएम नरेंद्र मोदी अमेरिका पहुँच चुके हैं. कुछ ही घंटों बाद ह्यूस्टन के NRG स्टेडियम में होने वाले howdy modi कार्यक्रम में वो 50 हज़ार लोगों को संबोधित करेंगे. एक तरफ जहाँ इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए जबरदस्त तैयारियां की गई है और भारतीय मूल के लोगों में प्रधानमंत्री को सुनने के लिए बहुत उत्साह है. वहीँ दूसरी तरफ बड़ी संख्या में पाकिस्तानी नागरिक भी ह्यूस्टन पहुँच चुके हैं.

आप सोच रहे होंगे कि ये पाकिस्तानी लोग howdy modi कार्यक्रम का विरोध करने के लिए ह्यूस्टन पहुंचे हैं तो आप गलत हैं. ये पाकिस्तानी लोग पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन करने और पीएम मोदी से मदद मांगने के लिए ह्यूस्टन पहुंचे हैं. बड़ी संख्या में सिन्धी, बलूच और पश्तो समुदाय के लोग ह्यूस्टन में NRG स्टेडियम के बाहर पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे. ये समुदाय पाकिस्तान से आज़ादी की मांग कर रहा है. लम्बे समय से बलूचिस्तान और सिंध पाकिस्तान से अलग होने के लिए छटपटा रहे हैं और ये मदद के लिए भारत की तरफ देख रहे हैं.

सिंध, बलूच और पख्तूनों का कहना है कि पाकिस्तान उनके मानवाधिकार का हनन कर रहा है और उन्हें पाकिस्तान से आज़ादी चाहिए. सिंधी एक्टिविस्ट जफर सहितो ने कहा कि सिंधी समुदाय के लोग एक संदेश लेकर ह्यूस्टन आए हैं. जब नरेंद्र मोदी यहां से गुजरेंगे तो हम उन्हें संदेश देंगे कि हम आजादी चाहते हैं. हमें उम्मीद है कि मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप हमारी मदद करेंगे. ज़फर “जीये सिंध मताहिदा मुहाज” नाम के संगठन से जुड़े हैं. ये संगठन और इनके जैसे कई अन्य सिन्धी संगठन अलग सिन्धुदेश की मांग कर रहे हैं. इनका कहना है कि भारत और अमेरिका दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतंत्र हैं और हम इनकी तरफ आशा भरी नज़रों से देख रहे हैं, जैसे उन्होंने बांग्लादेश को जुल्म से आज़ादी दिलाई वैसे ही हमें भी पाकिस्तान के ज़ुल्मों से आज़ादी दिलाने में मदद करें.

बलूच नेता नबी बक्श बलोच का कहना है कि हम पाकिस्तान से आजादी चाहते हैं. भारत और अमेरिका को हमें आजादी पाने में उसी तरह से मदद करनी चाहिए जैसे कि भारत ने बांग्लादेश की 1971 में की थी. नबी बक्श बलोच, “बलूचिस्तान नेशनल मूवमेंट” से लम्बे समय से जुड़े हुए हैं.

आपको बता दें कि सिर्फ बलूचिस्तान और सिंध ही नहीं बल्कि पाकिस्तान का खैबर पख्तुन्ख्वा प्रांत भी अलग होकर पख्तूनिस्तान बनने का ख्वाहिशमंद है और वहां अक्सर आजादी की मांग हिंसक हो उठती है. पख़्तूनिस्तान का अधिक हिस्सा अफगानिस्तान और पाकिस्तान की जमीन पर है. वैसे पाकिस्तान इन संगठनों पर आरोप लगा रहा है कि इन्हें भारत और अफगानिस्तान से पैसे मिल रहे हैं ताकि पाकिस्तान में अशांति बनी रहे.

howdy modi कार्यक्रम में पीएम मोदी के साथ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और कई अमेरिकी सांसद भी मौजूद रहेंगे. पीएम मोदी 7 दिनों के लिए अमेरिका की यात्रा पर हैं. इस दौरान वो UN जनरल असेम्बली को भी संबोधित करेंगे.