GST दरें कम होने के बावजूद भी बाबा रामदेव की कंपनी पंतजलि ने नहीं घटाए अपने रेट, लगा इतने करोड़ का जुर्माना

541

योग गुरू बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने आज के समय में मार्केट में जो पकड़ बनाई है उसकी जितनी तारीफ की जाए कम है. स्वदेशी कंपनी ने इतना बड़ा टर्नओवर करके बड़ी-बड़ी कंपनियों को पछाड़ा है लेकिन अभी हाल ही में एक खबर ऐसी खबर आ रही जिसे जानने के बाद बाबा रामदेव के समर्थकों को बड़ा झटका लग सकता है. पतंजलि कंपनी के मार्केट में इस समय हजारों की संख्या में प्रोडक्ट बिक रहे हैं और अच्छा कारोबार भी कर रहे हैं लेकिन कंपनी की एक गलती ने बाबा रामदेव को बड़ा झटका दिलवा दिया है.

जानकारी के लिए बता दें जीएसटी के रेट में कटौती हो जाने के बाद भी उत्पादों के दाम न घटाने के चलते बाबा रामदेव की आयुर्वेद कंपनी पतंजलि पर बड़ा जुर्माना लगा है. राष्ट्रीय मुनाफाखोरी रोधी प्राधिकरण ने बाबा रामदेव की कंपनी पर पूरे 75.1 करोड़ का जुर्माना ठोंककर बड़ा झटका दे दिया है. जुर्माना लगाने के पीछे बताया गया है कि पतंजलि ने अपने तमाम उत्पादों की कीमत में कटौती ना की थी.

बाबा रामदेव की कंपनी ने जीएसटी दरें कम होने का बावजूद भी रेट नहीं घटाए बल्कि डिटरजेंट पाउडर की कीमत में इजाफा और कर दिया. 12 मार्च को लगाये गये इस जुर्माने के बाद अथॉरिटी ने आदेश दिया है कि पतंजलि आयुर्वेद इस फाइन को जल्द जमा करें.

गौरतलब है कि अथॉरिटी ने बड़ा झटका देते हुए पतंजलि को ये भी कहा है कि केंद्र और राज्य सरकारों के कंज्यूमर वेलफेयर फंड में 18 परसेंट जीएसटी और जमा करें. अथॉरिटी ने कहा है कि ‘जीएसटी एक्ट के तहत रेट में कमी करने के बाद भी पतंजलि ने ग्राहकों को बेचे जाने वाले सामान के रेटों में कटौती नहीं की। इसके बाद पतंजलि को नोटिस जारी कर पूछा गया था कि आखिर आप पर इसके लिए जुर्माना क्यों न लगाया जाए।’ उन्होंने बताया है कि नवंबर 2017 के इस फ़ैसले फ़ायदा पतंजलि ने ग्राहकों को नहीं दिया गया, जिसमें 28 से 18 परसेंट और 18 से 12 फीसदी की दरें लागू की गयी थी जिसके चलते ही जुर्माना ठोंका गया है.