इमाम ने मुस्लिमों से की अपील, न लगवाएं कोरोना वैक्सीन क्योंकि ये हराम है

251

आपने अक्सर सुना होगा कि इस्लाम में ये काम हराम है, वो चीज हराम है. अब इस लिस्ट में एक और चीज जुड़ गई है. वो चीज है कोरोना वैक्सीन. एक इमाम ने अपने धर्म के लोगों से अपील की है कि वो कोरोना वैक्सीन न लगवाएं क्योंकि ये इस्लाम में हराम है. ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में रहने वाले सुफयान खलीफा नाम के इमाम ने वीडियो पोस्ट कर के अपने फ़ॉलोवर्स से ये अपील की. साथ ही उन्होंने उन मुस्लिमों की आलोचना भी की जो कोरोना वैक्सीन का समर्थन कर रहे हैं.

डेली मेल के मुताबिक़ इस इमाम ने कोरोना वैक्सीन को फासीवादी ककरार दिया. उन्होंने कहा कि दुनिया भर के मुसलमानों को फासीवाद से लड़ना होगा. इसलिए वो कोरोना वैक्सीन न लगवाएं. सुफयान खलीफा ने कहा कि कैथलिक चर्च भी इस वैक्सीन का विरोध कर रहे हैं क्योंकि ये हराम है. डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, कई और धार्मिक नेताओं ने भी ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन का विरोध किया है क्योंकि यह एक अबॉर्टेड बेबी के सेल से तैयार की गई है.

आपको बता दें कि ऑस्ट्रेलिया ने ऑक्सफ़ोर्ड कोरोना वैक्सीन के लिए एक समझौता किया है. इस वक़्त वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल चल रहा है और पूरी दुनिया को इस वैक्सीन से काफी उम्मीदें हैं. ऑस्ट्रेलिया सरकार के इस कदम के खिलाफ कई संगठन खड़े हो गए हैं. हालांकि, अन्य धार्मिक नेताओं ने वैक्सीन के उपयोग का समर्थन किया है. ऑस्ट्रेलियन नेशनल इमाम काउंसिल के प्रवक्ता बिलाल रउफ ने कहा कि इस्लाम का सिद्धांत देखें तो सबसे ऊंचा सिद्धांत जिंदगी बचाने का है.