जान बचाने वाले डॉक्टरों के साथ मु’स्लि’म समुदाय के लोगों ने किया ऐसा सलूक, रों’गटे खड़े हो जायेंगे आपके

1848

डॉक्टर को भगवान का रूप माना गया है. कोरोना संकट के दौर में डॉक्टर अपनी जान की परवाह किये बिना मरीजों की देखभाल कर रहे हैं. लेकिन इसी बीच कुछ ऐसी घटनाएं सामने आई है जिसे देख कर आपका खू’न खौ’ल उठेगा. देश के कई हिस्सों में डॉक्टरों पर ह”मले हो रहे हैं, एम्बुलेंस पर प’त्थर बर’साए जा रहे हैं और ये सब किया जा रहा है मु’स्लि’म समुदाय के लोगों द्वारा.

सोशल मीडिया पर कई ऐसे विडियो सामने आये जिन्हें देख कर आपका कलेजा काँ’प उठेगा. सबसे खौ’फना’क विडियो मध्य प्रदेश के इंदौर शहर का है. स्वास्थ्य विभाग को सूचना मिली थी कि इंदौर के टाटपट्टी बाखल और सिलावट पुरा इलाके में एक सं’दिग्ध है जिसमे कोरोना जैसे लक्षण है. मेडिकल टीम के साथ डॉक्टर वहां पहुंचे. लेकिन वहां पहले से मौजूद मु’स्लि’म समुदाय की भीड़ ने प’त्थर’बाजी शुरू कर दी. मेडिकल टीम को जा’न बचा कर भागना पड़ा. भीड़ उन्हें काफी दूर तक खदेड़ती रही और उनपर प’त्थरबा’जी करती रही. इस घटना का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

बेंगलुरु में भी मुस्लिम समाज के लोगों ने कोरोना वायरस से जुड़ा डेटा कलेक्ट करने गई एक आशा कार्यकर्ता पर ह’मला कर दिया. आशा कार्यकर्ता कृष्णावेनी तबलीगी जमात से जुड़े लोगों का सर्वे करने गई थीं. कृष्णावेनी बड़ी मुश्किल से अपनी जा’न बचा पाई. उनका आरोप है कि एक म’स्जि’द से लोगों को भ’ड़का’या गया और इसके बाद उन पर ह’मला किया गया.

ऐसी घटनाओं के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों में आक्रोश है. लोग ऐसे जाहिलों पर कड़ी करवाई की मांग कर रहे हैं. ऐसे लोग देश और समाज दोनों के दु’श्मन बन गए हैं.