बागी विधायकों को लेकर नरम पड़े सीएम अशोक गहलोत के तेवर, कहा अगर उन्हें आलाकमान माफ़ कर दे तो मैं भी…

राजस्थान में जारी सियासी संकट खत्म होने का नाम नही ले रहा है. सूबे की राजनीति सियासी क्रम हर दिन एक नया मोड़ ले लेता है. सीएम अशोक गहलोत से बगावत करने वाले सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक काफी समझाने के बाद भी सुलह करने के मूड में नही हैं. सचिन पायलट ने अंदरूनी कलह के चलते अपने समर्थक विधायकों के साथ किनारा कर लिया. जिसके बाद राजनीति में हलचल मच गई थी कि कहीं सिंधिया की तरफ सचिन पायलट भी बीजेपी में शामिल होकर सरकार का तख्ता पलट न कर दें.

जानकारी के लिए बता दें राजस्थान में इस सियासी हलचल के बाद कांग्रेस के तमाम नेता वहां पहुंचे और पायलट को समझाने की कोशिश की लेकिन वो गहलोत को मुख्यमंत्री पद पर रहने के लिए राजी नही हुए. जिसके बाद आलाकमान ने पायलट को डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष के पद से बर्खास्त कर दिया.

वहीं दूसरी ओर अशोक गहलोत ने साफ कह दिया कि पायलट जाना चाहें तो जाएं हमारे पास पूरे विधायक हैं हमारी सरकार को कोई खतरा नही है. इसके बाद भी हालत काबू में नही हुए और फिर सीएम अशोक गहलोत को अपने विधायकों को डर सताने लगा कि कहीं उनके खेमे के विधायक बीजेपी में न चले जाएं. अब सीएम अशोक गहलोत के तेवर भी नरम पड़ गए.

गौरतलब है कि अब सीएम अशोक गहलोत ने बागी विधायकों को लेकर कहा है कि राजस्थान में जो लोग सरकार को अस्थिर करने की साजिश में लगे हुए थे अगर वो लोग आलाकमान के पास जाकर अपनी गलती स्वीकारते हैं और आलाकमान उन्हें माफ कर देता है तो मैं भी उन्हें गले लगा लूंगा.