CM की कुर्सी पाने के लिए जानिए कैसे झुकी शिवसे’ना कां’ग्रेस के आगे, मंत्री अशोक चव्हाण ने खोला रा’ज

1043

एनडीए के सहयोगी दल शिवसेना ने बीजेपी से गठबंधन तोड़कर एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन करके अपनी सरकार बना ली थी. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सीएम की कुर्सी पाने के लिए किसी भी हथकंडे को छोड़ा नही और काफी दिन तक महाराष्ट्र में सियासी ड्रामा चला था. महाराष्ट्र में शिवसेना जैसी पार्टी ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन कैसे कर लिया इसका खुलासा अब धीरे-धीरे होने लगा है.

जानकारी के लिए बता दें कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री अशोक चव्हाण ने इस बात को लेकर बड़ा खुलासा किया है कि आखिर कैसे सोनिया गाँधी उद्धव ठाकरे के साथ गठबंधन करने को तैयार हो गयी. जी हाँ उन्होंने बताया है कि शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी को लिखित में आश्वासन दिया था.

सोनिया गाँधी ने उनसे लिखित में ये आश्वासन लिया था कि वह संविधान के दायरे में रहकर सरकार चलाएंगे, अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो कांग्रेस उनसे अपना समर्थन वापस ले लेगी. उद्धव ठाकरे की सरकार में लोकनिर्माण मंत्री शोक चव्हाण ने कहा, ‘सोनिया गांधी ने हमें बताया कि आपको यह लिखित रूप में प्राप्त करने की आवश्यकता है कि सरकार संविधान के अनुसार कार्य करेगी. यदि यह प्रस्तावना से भटक जाए तो हम सरकार से बाहर निकल जाएंगे. हमने यह बात उद्धव ठाकरे को बताई. शिवसेना (Shiv Sena) ने इसे स्वीकार कर लिया.’ तो इस तरह कांग्रेस के आगे झुककर शिवसेना ने सरकार बनाई थी.

गौरतलब है कि पिछले साल नवम्बर में महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव संपन्न हुए थे जिसमें बीजेपी और शिवसेना के गठबंधन को जीत मिली थी लेकिन शिवसेना ने कम सीटें आने के बावजूद भी मुख्यमंत्री पद की मांग रख दी, जिसको बीजेपी ने स्वीकार नही और फिर ये गठबंधन टूट गया. जिसके बाद शिवसेना ने अप्रत्याशित रूप से एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना ली.