निर्भया के दो’षि’यों की ट’ली फां’सी तो मां ने रोते हुए कहा, ‘आग लगे…’

4511

निर्भया मामले में दो’षी चारों आ’रोपी फां’सी से बचने के लिए हर हथकंडा उपाय रहे हैं लेकिन एक के बाद एक करके उनके सारे रास्ते बंद होते जा रहे हैं. इस मामले में डे’थ वारंट जारी होने के बाद एक फरवरी को दोषियों को फांसी होनी थी लेकिन अब इससे पहले दोषियों के वकील ने फिर एक याचिका दायर कर दी है जिससे चारों दोषियों को 1 फरवरी को होने वाली फां’सी टल गयी है.

जानकारी के लिए बता दें निर्भया के आरोपियों की फिर से फांसी टल जाने से न्याय प्रणाली का जमकर मजाक बन रहा है. दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने कुछ दोषियों के पास क़ानूनी विकल्प बचे होने के आधार पर शुक्रवार को उनके डेथ वारंट पर अगले आदेश तक के लिए फिर से रोक लगा दी है. दोषियों की फिर से फांसी टलने के बाद से निर्भया की मां के सब्र का बांध टूट गया है.

कोर्ट के फ़ैसले के बाद निर्भया की मां रोते हुए बोली कि 7 साल पहले उनकी बेटी के साथ ये अपराध हुआ था. सरकार और ये न्याय कानून उन्हें बार बार मुजरिमों के आगे झुका रहा है. उन्होंने कहा है कि ये लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तब दोषियों को फांसी नही हो जाती. वहीं उन्होंने बताया कि इससे पहले ही मुजरिमों के वकील ने उन्हें चुनौती दी थी कि मुजरिमों की फांसी अनंतकाल तक टलेगी.

गौरतलब है कि कोर्ट द्वारा फिर लगी रोक के बाद उनका गुस्सा जमकर न्याय प्रणाली पर फूटा,’मैं सरकार से, कोर्ट से, न्याय व्यवस्था से यही कहना चाहती हूं कि आज इस कानून व्यवस्था की कमी की वजह से एक मुजरिम का वकील मुझे चैलेंज करके गया है कि अनंतकाल तक फांसी नहीं होगी। …जो मुजरिम चाहते थे, वह हो गया, फांसी टल गई.’ उन्होंने कहा कि हमें कानून पर भरोसा तो है लेकिन जो रहा है उससे अपराधियों के हौंसले बढ़ेंगे ही, इसके आगे उन्होंने कहा कि अगर ऐसा ही होना है तो नियम-कानून की इन किताबों को आग लगा दो.