वामपंथी अरुंधती राय का देश विरोधी बयान, कहा ‘भारत की सरकार कोरोना की आड़ में मुसलमानों का…’

4091

पूरी दुनिया कोरोना से जूझ रही है. लेकिन भारत सिर्फ कोरोना से ही नहीं जूझ रहा. भारत की ल’ड़ाई दो मोर्चों पर है. एक तो वायरस है, जिसका तोड़ आज नहीं तो कल मिल ही जाएगा. लेकिन दुसरे मोर्चे पर लड़ाई स्लीपर सेल से है. स्लीपर सेल, जो देश में मुश्किल हालातों में देश में रहकर ही देश के खिलाफ ष’ड्यंत्र करने लगता है. ये देश का ही खाते हैं, देश का ही पासपोर्ट इस्तेमाल करते हैं लेकिन काम ये देश विरोधी करते हैं. इन्हें आप कई नामों से जानते हैं, जैसे वामपंथी, अर्बन न’क्सल वगैरह वगैरह. इसकी वामपंथी, स्लीपर सेल, अर्बन न’क्सल गैंग की सदस्य है अरुंधती रॉय. कहते को लेखिका है लेकिन काम सारा दिन भारत के खिलाफ ज़’हर उगलना और भारत के खिलाफ ष’ड्यंत्र करना है.

जिस दौरान देश कोरोना से निपटने में लगी है. अरुंधती रॉय देश और सरकार के खिलाफ प्रोपगैंडा फैलाने में लगी है. जर्मन न्यूज नेटवर्क डॉचे वेले (DW) को बयान देते हुए अरुंधती ने कहा है कि ‘कोरोना संकट से निपटने में सरकार की इस कथित रणनीति से ऐसी स्थिति पैदा होगी जिस पर दुनिया को नजर रखनी चाहिए. हालात जी’नोसा’इड (जातीय या सामुदायिक सं’हार) की तरफ बढ़ रहे हैं.’

अरुंधती ने डॉक्टरों पर ह’मले करने वालों, डॉक्टरों पर थूकने वालों का बचाव करते हुए कहा, ‘यह संकट मुसलमानों के प्रति घृ’णा का है जो दिल्ली में हुए न’रसं’हार के तुरंत बाद सामने आया है. दिल्ली में मु’स्लि’म विरोधी कानून के खिलाफ प्रदर्शन के कारण दं’गे हुए थे. कोविड-19 की आड़ में सरकार युवा विद्यार्थियों को गिरफ्तार कर रही है. वकीलों, वरिष्ठ संपादकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों के खिलाफ केस दर्ज कर रही है. कुछ को हाल ही में जे’ल में डाल दिया गया.

डॉक्टरों पर ह’मले करने वालों के खिलाफ राज्य सरकारे NSA के तहत कारवाई कर रही है. जाहिर सी बात है इससे तिलमिलाई अरुंधती प’त्थर’बा’जों को बुद्धिजीवी, युवा छात्र और सामाजिक कार्यकर्ता बता रही है. नीचता की हद तक जाना वामपंथियों की आदत रही है. अरुंधती ने इसकी तुलना जर्मन हो’लोका’स्ट से कर दी. उसने कहा, ‘सरकार कोरोना संकट का जैसा रणनीतिक इस्तेमाल रही है वह याद दिलाता है कि कैसे नाजियों ने हो’लोका’स्ट की रणनीति बनाई थी.’

आपको याद होगा कि कुछ महीनों पहले नागरिकता संसोधन क़ानून के खिलाफ मुसलमान सड़क पर उतर आये हैं. इसकी वजह थी कि अरुंधती रॉय जैसे वामपंथियों उन्हें भ’ड़का’ते हुए कहा था कि सरकार उन्हें देश से बाहर निकाल रही है. अब कोरोना से जूझते देश में डॉक्टरों पर लगातार ह’मले हो रहे हैं. इसकी वजह भी यही है कि अरुंधती रॉय जैसे वामपंथियों ने उन्हें भ’ड़का दिया है, ये वामपंथी देश को हिं’सा की आग में झोकना चाहते हैं क्योंकि यही इनका एजेंडा है.