उरी में सेना के कैंप के पास दिखे आतंकी, सर्च ऑपरेशन जारी

743

सर्जिकल स्ट्राइक को हुए 2 साल पूरे हो गए. 2016 उरी में हुए आतंकी हमले के 10 दिन के बाद ही भारत ने इसका बदला ले लिया था ….भारतीय सेना ने सीक्रेट प्लान कर ..28-29 सितंबर की आधी रात पाकिस्तान की सीमा में 3 किलोमीटर के अंदर घुस कर …आतंकियों के ठिकानों को तहस-नहस कर डाला…28 सितंबर की आधी रात… घड़ी में 12 बज रहे थे… एमआई 17 हेलिकॉप्टरों के जरिए 150 कमांडोज को एलओसी के पास उतारा गया… पुंछ से एडवांस्ड लाइट हेलिकॉप्टर ध्रुव पर 4 और 9 पैरा के 25 कमांडो सवार होकर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में दाखिल हुए….

हेलिकॉप्टर ने इन जवानों को एक सुनसान जगह उतार दिया था…घोर अंधेरा और अनजान जगह होने के कारण सैनिकों पर चारों ओर से खतरा बना हुआ था… लेकिन कमांडोज आगे बढ़े और पाकिस्तानी सेना की ओर फायरिंग की आशंका होने के कारण करीब 3 किलोमीटर का फासला रेंग कर तय किया…. और पाकिस्तानी सेना को भारत के इस कदम का पता भी नहीं चला….. भारतीय सेना ने अपनी बहादूरी से देखते ही देखते 38 आतंकवादी ढेर कर दिया …और रात साढ़े 12 बजे शुरू हुए इस ऑपरेशन को साढ़े 4 बजे तक खत्म कर लिया गया…


लेकिन अब फिर से जम्मू-कश्मीर के, उरी में भारतीय सेना के… कैम्प के पास आतंकी गतिविधियों को देखा गया.. …जिसके के बाद पूरा इलाका हाई अलर्ट पर है… पुलिस और रिपोर्ट्स से मिली जानकारी के मुताबिक, यहां एलओसी के करीब कुछ संदिग्धों को देखा गया जिसके बाद सेना केजवानों ने ओपन फायरिंग की…लेकिन आतंकियों के लिए सर्च अभियान अभी जारी है…. बता दें कि सुरक्षा की दृष्टि से उरी बेहद संवेदनशील माना जाता है…अब सवाल ये उठता है कि क्या आतंकी दुबरा से उरी पर हमला करने की फिराक में है …क्या वो देश में 2019 चुनावो से पहले अपनी दहशत फैलाना चाहते है… उनका मकसद जो भी हो …लेकिन हमारी सेना उनके नापाक इरादों के सामने डटकर कड़ी है …2016 में हुए उरी हमले का भी हमारी सेना ने उनको मुह तोड़ जबाव दिया था.