होम क्वारनटीन को लेकर एलजी और केजरीवाल की ठनी, दिल्ली सरकार ने फैसले को वापस लेने को कहा

99

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. दिल्ली में कोरोना होने पर होम क्वारनटीन होने के लिए खुद सीएम केजरीवाल ने बोला है. होम क्वारनटीन  को लेकर अब केजरीवाल और उपराज्यपाल के बीच विवा’द हो गया हैं. दरअसल हुआ कुछ ऐसा कि दिल्ली के उप राज्यपाल अनील बैजल ने केजरीवाल के होम क्वारनटीन के फैसले को पलट दिया हैं.

दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल ने कहा है कि कोरोना मरीजों को कम से कम पांच दिन इंस्टीट्यूशनल क्वारनटीन में बिताने होंगे. दिल्ली सरकार ने इसे मनमाना फैसला करार दिया. साथ ही इस पर एतराज जाहिर करते हुए फैसला वापस लेने की मांग की है. दिल्ली के अंदर कोरोना मरीजो की बढती संख्या अब डरा रही हैं. एक दिन में तीन हज़ार से ज्यादा मरीज मिलने के बाद दिल्ली की हालात खराब होती नजर आ रही हैं. अब देखना ये है की दिल्ली में आगे की लड़ाई कोरोना को लेकर कैसे लड़ी जाएगी.

इस बीच दिल्ली के अंदर राजनीति फिर से गरमा गई हैं. केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के बीच होम क्वारनटीन को लेकर तकरार बढ़ गई हैं.  गृह मंत्रालय की सलाह के बाद एलजी ने आदेश जारी कर दिया है. जिसमें कहा गया कि अब कोरोना मरीजों को कम से कम पांच दिन सरकारी कोविड केयर सेंटर में रहना ही होगा.एलजी ने अपने आदेश में कहा कि ‘सरकारी कोविड केयर सेंटर में पांच दिन गुजारने के बाद हालत सुधरने पर ही होम आइसोलेशन की इजाजत दी जाएगी. केंद्र का मानना है कि होम आइसोलेशन की वजह से मरीजों पर नजर रखना मुश्किल होने की वजह से संक्रमण फैल रहा था. कहीं न कही ये बात केंद्र सरकार की सही भी है.