AMU के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष फैजुल हसन का भड़’काऊ बयान, हम उस कौम से हैं जो सबकुछ बर्बाद कर देंगे

1762

CAA के विरोध प्रदर्शन की आड़ में  देश विरोधी गतिविधियों की कई तस्वीरें आपके सामने आ चुकी होंगी. कहीं आज़ादी के नारे लगाए जा रहे हैं तो कहीं फ्री कश्मीर के बैनर लहराए जा रहे हैं. कहीं लोगों को भड़का कर हिं’सक करने की कोशिश की जा रही है कि सरकार आपको देश से भगाने जा रही है. इसी कड़ी में एक और बयान सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमे देश में सबकुछ बर्बाद करने की धमकी दी जा रही है और वो भी इस्लमा के नाम पर.

AMU (अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी) के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष फैजुल हसन खुलेआम भीड़ को संबोधित करते हुए कह रहे हैं कि “सब्र की अगर सीमा देखना चाहते हैं तो 1947 के बाद 2020 तक हिंदुस्तानी मुसलमानों के सब्र की सीमा देखिए. कभी कोशिश नहीं की कि हिंदुस्तान टूट जाए वरना हम उस कौम से हैं कि अगर बर्बाद करने पर आए तो छोड़ेंगे नहीं किसी देश को इतना गुस्सा है.”

इस भड़काऊ बयान के सामने आने के बाद विवाद बढ़ गया. इस भाषण से साफ़ इशारा किया जा रहा है कि इस्लाम एक हिंसक कौम है और वो देश को बर्बाद करने से भी पीछे नहीं हटेगा. जैसे जैसे CAA के खिलाफ विरोध के दिन गुजरते जा रहे हैं वैसे वैसे विरोधियों का देश विरोधी एजेंडा भी खुल कर सामने आता जा रहा है. लोगों सोशल मीडिया पर जमकर अपना गुसा निकाल तरहे हैं फैजुल हसन के बयान के खिलाफ.