अमित शाह ने बताया कि कितनी बार गांधी परिवार बिना एसपीजी को लिए बाहर निकल पड़े!

1406

एसपीजी को लेकर सदन में संशोधित बिल पास कर दिया गया है. अब सिर्फ प्रधानमंत्री और उनके साथ रहने वाले प्रधानमंत्री के रिश्तेदारों और पांच साल तक पूर्व प्रधानमंत्री को ही एसपीजी की सुरक्षा मिलेगी. इस बिल के पास होने के बाद से ही कांग्रेस में बवाल मच गया है. दरअसल राहुल गाँधी सोनिय गाँधी और प्रियंका वाड्रा को भी अब तक एसपीजी की सुरक्षा मिल रही थी क्योंकि वे पूर्व प्रधानमंत्री के परिवार से हैं सिर्फ इसीलिए!

 बुद्धवार को ग्रहमंत्री अमित शाह ने सदन में एसपीजी की सुरक्षा को संशोधित करने वाले बिल को पेश किया. इस बिल के पेश होने पर सदन में चर्चा के दौरान पर तमाम प्रकार के आरोप लगाए गये और ग्रह मंत्री अमित शाह की तरफ से जवाब भी दिए गये. कांग्रेस सदस्यों ने गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाए जाने को लेकर हंगामा मचाया तो गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि राजनाथ जी की तरफ देखो, इनके साथ तो टॉयलेट तक सुरक्षाकर्मी जाते थे. इसके साथ कांग्रेस सांसदों के हंगामें के बाद अमित शाह ने कहा कि ‘गांधी परिवार के सदस्य कई बार बिना सूचना दिए यात्रा पर गए हैं. ऐसा कम से कम 600 बार हुआ है. ऐसा क्या सीक्रेट था? राजनाथ जी को तो लंबे समय तक सुरक्षाकर्मी टॉयलेट तक छोड़ते रहे हैं.’  

यहाँ ये जानना भी जरूरी है कि कांग्रेस की तरफ से मनीष तिवारी ने विधेयक पर चर्चा की शुरुआत करते हुए कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के पद से हटने के बाद तत्कालीन सरकार ने उनकी एसपीजी सुरक्षा समाप्त कर जो गलती की थी उसके परिणाम स्वरूप एक आतंकवादी हमले में उनकी जान गई. उस समय की सरकार ने तर्क दिए थे कि एसपीजी के पास इतने जवान तथा इतनी क्षमता नहीं है कि वह इतनी बड़ी संख्या में विशेष लोगों को सुरक्षा प्रदान कर सके. कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने बताया कि एसपीजी बिल में एक परिवार के हिसाब से फेरबदल नहीं, बल्कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा के हिसाब से किया गया है.

दरअसल केंद्र सरकार गांधी परिवार के एसपीजी कवर को वापस ले चुकी है, इसलिए एसपीजी विधेयक हाल के घटनाक्रमों के मद्देनजर बेहद महत्वपूर्ण है. गांधी परिवार में सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और उनकी बेटी प्रियंका गांधी वाड्रा को पूर्व प्रधनमंत्री राजीव गांधी की हत्या के बाद से एसपीजी सुरक्षा कवर प्राप्त था. यहाँ आपको जानकारी के लिए बता दें कि एसपीजी बनी ही थी सिर्फ प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए.. लेकिन राजीव गाँधी की हत्या के बाद सिर्फ गाँधी परिवार की सुरक्षा के लिए बार बार एसपीजी के कानून में संशोधन किया है.

जब संसद में एसपीजी पर अमित शाह जवाब दे रहे थ इसी दौरान उन्होंने बताया कि गाँधी परिवार के तीनों सदस्य लगभग 600 बार बिना सुरक्षा के या फिर बिना बताये ही कार्यक्रम में या दौरे पर चले गये हैं.. वहीँ जबसे पीएम मोदी को सुरक्षा मिली है.. जब से वे मुख्यमंत्री थे तब से आज तक वे एक बार बिना सुरक्षा के कहीं नही गये हैं.




खैर अब गाँधी परिवार की सुरक्षा सीआरपीएफ के जवान करेंगे. अमित शाह ने साफ़ साफ़ कहा है कि गाँधी परिवार की सुरक्षा बदली गयी ना कि हटाई गयी है, पहले के मुताबिक अब गाँधी परिवार की सुरक्षा में और अधिक जवान तैनात रहेंगे.
  दरअसल जब राजीव गाँधी प्रधानमंत्री थे. तभी एसपीजी का गठन किया गया था. तब ये कहा गया था कि एसपीजी की सुरक्षा सिर्फ प्रधानमंत्री को मिलेगी. वही राजीव गाँधी की हत्या के बाद कानून में में संशोधन कर इसे प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार वालों को भी एसपीजी की सुरक्षा देने की बात कही गयी. पिछले कई सालों से गांधी परिवार को एसपीजी की सुरक्षा मिलती रहे इसके लिए कई बार इस कानून में संशोधन किया गया. अब देश में सिर्फ प्रधानमंत्री मोदी ऐसे व्यक्ति होंगे जिनके पास एसपीजी की सुरक्षा रहेगी.