अमित शाह के सुर में सुर मिलाते हुए कांग्रेस ने खोल दी ममता बनर्जी की पोल

पूरे देश में इस समय कोरोना के चलते लॉकडाउन चल रहा है. सरकार के पास इस समय लॉकडाउन के अलावा कोई विकल्प नहीं था इसीलिए सरकार ने लॉकडाउन को आगे बढ़ाना ही सही विकल्प समझा. इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह ये है कि इस वायरस की अभी तक दवा नही बन पाई है न ही इसकी कोई वैक्सीन बनी है. वहीँ सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती इस समय प्रवासी मजदूरों को उनके राज्य तक पहुँचाने की है.

जानकारी के लिए बता दें केंद्र सरकार राज्य सरकार के सहयोग से अन्य राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों को स्पेशल ट्रेन चलवाकर उन्हें अपने घर पहुँचाने का काम कर रही है. अब तक कई सारी स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाया गया है. इसी बीच एक बड़ी खबर पश्चिम बंगाल से आ रही है. दरअसल देश के गृह मंत्री अमित शाह ने एक चिट्ठी लिख बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रवासियों को ट्रेन से घर वापस जाने में मदद क्यों नहीं की जा रही है.

दरअसल अमित शाह ने साफ़ किया था कि बंगाल में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए राज्य सरकार सहयोग नहीं दे रही है न ही कोई जानकारी दे रही है. जिसके चलते उनकी मदद की जा सके. वहीँ अमित शाह के इस बयान का कांग्रेस ने साथ देते हुए ममता बनर्जी पर निशाना साधा है. लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने ममता बनर्जी की पोल खोलते हुए कहा ‘मैंने खुद अमित शाह से बात की थी बंगाल के प्रवासी मजदूरों को वापस भेजने के लिए. दो दिन पहले उनसे बात हुई. उन्होंने कहा कि मैंने बार बार लिस्ट मांगी की कितनी ट्रेन चाहिए लेकिन राज्य सरकार ने लिस्ट नहीं दी. ये पता चला कि बंगाल ने आज 8 ट्रेन की लिस्ट दी है. दबाव में थोड़ा काम हुआ है.’

गौरतलब है कि केंद्र सरकार हर राज्य के लोगों की मदद करते हुए वहां स्पेशल ट्रेन मजदूरों की संख्या के हिसाब से भेज रही है. अमित शाह के इस दावे पर कांग्रेस ने भी समर्थन करते हुए यही कहा कि 2 बार पूछा गया कि उन्हें कितनी ट्रेन चाहिए लेकिन ममता बनर्जी सरकार ने जवाब नहीं दिया. शाह ने ममता बनर्जी को चिट्ठी लिखते हुए कहा था कि अन्य राज्यों की तरह बंगाल में फंसे प्रवासी मजदूर भी अपने घर जाने की इच्छा रखते हैं. इससे मुझे दुःख होता है कि आपकी सरकार इस सम्बंध में सहयोग नहीं कर पा रही है. वहीँ अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि ‘पश्चिम बंगाल और अमित शाह से अपील है कि फंसे मजदूरों को वापस लाने के लिए मिलकर प्रयास करें. अमित शाह ने मुझसे वादा किया था कि बंगाल सरकार से बात करेंगे, उन्होंने किया और दबाव के चलते कुछ काम होने लगा है.