इस सीट पर अमित शाह और नीतीश कुमार ने एक साथ की थी रैली, यहीं बना सबसे बड़ी हार का रिकॉर्ड

2222

दिल्ली विधानसभा चुनाव जीतने के लिए भाजपा ने सारी ताकत झोंक दी. यहाँ तक की उसने दो सीटें जेडीयू को भी दी. लेकिन फिर भी भाजपा कोई चमत्कार नहीं कर सकी. अमित शाह और नीतीश कुमार ने मिल कर एक साझी रैली को संबोधित किया और उन्होंने जिस सीट पर रैली की वहां सबसे बड़ी हार का रिकॉर्ड बन गया.

बुराड़ी विधानसभा सीट भाजपा ने जेडीयू को दी थी. इस सीट से जेडीयू उम्मीदवार थे शैलेन्द्र कुमार. उन्हें जिताने के लिए खुद नीतीश कुमार दिल्ली आये और अमित शाह के साथ मिल कर एक बड़ी रैली को संबोधित किया. लेकिन सबसे बड़ी हार इसी सीट पर मिली. ये हार इतनी बड़ी है कि दिल्ली के इतिहास में दर्ज हो गया. इस सीट पर आम आदमी के प्रत्याशी संजीव झा ने जेडीयू उम्मीदवार शैलेन्द्र कुमार को रिकॉर्ड 88158 वोटों से हराया.

आम आदमी उम्मीदवार संजीव झा को 1,39 368 वोट मिले जबकि जेडीयू उम्मीदवार को यहाँ 51 हज़ार वोट मिले. इस सीट पर कांग्रेस और राजद का गठबंधन था. यहाँ से राजद ने अपना उम्मीदवार उतारा लेकिन उसकी तो जमानत ही जब्त हो गई. राजद उम्मीदवार को मात्र 2200 वोट मिले. जबकि शिवसेना ने भी अपना प्रत्याशी उतारा था और आश्चर्यजनक रूप से शिवसेना उम्मीदवार को 18 हज़ार वोट मिल गए. ऐसा लगता है मानों शिवसेना ने जेडीयू के वोट काट लिए. शिवसेना का चुनाव चिन्ह तीर धनुष है जबकि जेडीयू का चुनाव चिन्ह तीर है.