गृह मंत्रालय की चेतावनी, वर्क फ्रॉम होने के लिए ख’तरनाक है ये एप

1129

कोरो’ना वायरस के महासंकट की वजह से देश में लॉकडाउन जारी है. आज कल लोग लॉक डाउन में कई तरह के काम कर रहें हैं और लोग एक दूसरे से बात करने के लिए विडियो काल का भी इस्तेमाल कर रहें हैं. लॉक डाउन के दौरान लोग ऑफिस की मीटिंग के लिए एक एप का इस्तेमाल इस वक़्त पर सबसे ज्यदा हो रहा है. जिस पर गहरी मंत्रालय ने एक खुलासा किया है.

ऐसे समय में एक दूसरे से जुड़ने के लिए लोग वीडियो कॉल का इस्तेमाल कर रहे हैं. वीडियो कॉलिंग/कॉन्फ्रेंसिंग ऐप ज़ूम के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से एडवाइज़री जारी की गई है, जिसमें कहा गया है कि ये ऐप सुरक्षित नहीं है, ऐसे में लोग इसका सावधानी से इस्तेमाल करें. गृह मंत्रालय की ओर से कहा गया कि सरकार ने पहले भी 6 फरवरी, 30 मार्च को इसको लेकर जानकारी दी थी, ऐसे में लोग इसपर सतर्कता बरतें.

सरकार ने कहा है कि लोग अगर इसका इस्तेमाल कर भी रहे हैं, तो कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखें. लगातार पासवर्ड बदलते रहें, कॉन्फ्रेंस कॉल में किसी को अनुमति देते हुए सतर्कता बरतें. गृह मंत्रालय ने ज़ूम एप को उसे करेने के लिए कुछ सुझाव भी दिए हैं. सुझाव इस प्रकार है.

• हर मीटिंग के लिए नई यूजर आईडी, पासवर्ड का इस्तेमाल करें.

• वेटिंग रूम को एनेबल करें, ताकि कोई भी यूजर तभी कॉल में शामिल हो सके जब कॉन्फ्रेंस करने वाला अनुमति दे.

• ज्वाइन ऑप्शन को डिसऐबल कर दें.

• स्क्रीन शेयरिंग का ऑप्शन सिर्फ होस्ट के पास रखें.

• किसी व्यक्ति के लिए रिज्वाइन का ऑप्शन बंद रखें.

• फाइल ट्रांसफर के ऑप्शन का कम से कम इस्तेमाल करें.

गौरतलब हैं की जबसे देश के अंदर लॉक डाउन की स्तिथि पैदा हुई है. कोरो’ना को लेकर तबसे लगभग सभी ऑफिस ने लोगों को वर्क फ्रॉम होम करने को कहा था. लॉक डाउन होने की बाद ही लोगों के अंदर एक दुसरे से विडियो कांफ्रेंस करने का चलन बढ़ गया हैं. जिसको देखते हुए आज गृह मंत्रालय ने ये एडवाइजरी जारी की हैं. तो इस एप को उसे करने वाले सभी लोग सतर्क हो जाएँ हौर ध्यान से उसे करें ज़ूम एप.