प्रशासन की रोक के बाद भी अखिलेश यादव क्यों प्रयागराज जाने पर अड़े रहे अखिलेश यादव? ये रही सच्चाई

276

जैसे जैसे चुनावी मौसम नजदीक आ रहा है वैसे सियासी पारा भी चढ़ता जा रहा है. पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार ने जब बीजेपी नेताओं के हेलीकाप्टर की उतरने से रोका तो पूरा विपक्ष एकजुट खड़ा दिखाई दिया. जिसके बाद बीजेपी नेताओं को सड़क के रास्ते रैली स्थल पर जाना पड़ा… ऐसा ही कुछ हुआ उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव के साथ..जहाँ पूर्व मुख्यमंत्री को रनवे से वापस लौट कर जाना पड़ा. मामला 12 फ़रवरी का है जब अखिलेश यादव प्रयागराज जाने के लिए हवाई अड्डे से अपने प्राइवेट प्लेन से निकलने वाले ही थे तभी वहां अधिकारी पहुँचते हैं और उन्हें प्लेन में चढ़ने से रोक लेते हैं अखिलेश यादव के साथ यहाँ पर अधिकारीयों की बहस भी होती हैं..हालाँकि बाद में अखिलेश यादव को वापस लौट जाना पड़ा..
इसके बाद अखिलेश यादव के समर्थकों ने प्रयागराज लखनऊ समेत कई जगहों पर जमकर हंगामा किया..इन्हें कंट्रोल करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया हालाँकि समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस को भी पीट दिया…लेकिन यहाँ सबसे महत्वपूर्ण बात तो यहाँ है कि आखिर अखिल्रेश यादव को प्रयागराज जाने से क्यों रोका गया? जब पूरा देश प्रयागराज कुम्भ जा रहा है तो अखिलेश यादव को क्यों रोका जा रहा है?


बता दें कि अखिलेश यादव ने प्रेस कांफ्रेस कर योगी सरकार पर आरोप लगाया है कि उनका कार्यक्रम पहले से ही फिक्स था. उन्होंने पहले ही अपने कार्यक्रम को लेकर प्रशासन को अवगत भी करवाया था लेकिन सरकार ने तानशाही करके मुझे रुकवा दिया.
लेकिन क्या यही सच्चाई है? क्या अखिलेश यादव सच बोल रहे हैं या अखिलेश यादव आधी कहानी ही बता रहे हैं.
दरअसल प्रयागराज में कुम्भ चल रहा है और अखिलेश यादव इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के समाजवादी छात्र संगठन से जुड़े छात्रों से मिलने जा रहे थे. जहां पहले ही बवाल मचा हुआ है हाल ही में कुछ छात्रों पर बम से हमला हो गया था और जिसके बाद से ही तनाव का माहौल है…यूनिवर्सिटी प्रशासन ने अखिलेश यादव को चिट्ठी लिखकर युनिवारिसिटी ना आने का आग्रह किया था. वहीं अखिलेश यादव ने अपने दौर का ब्योरा प्रशासन को भी नही दिया था ऐसे में आशंका थी कि वे इअलाहबाद यूनिवर्सिटी भी जा सकते है..जहाँ छात्रों में पहले तनाव चल रहा है..यूनिवर्सिटी प्रशासन ने सरकार को अखिलेश यादव को आने से रोकने के लिए कहा..फिर सरकार ने अखिलेश यादव को प्रयागराज के बजाय लखनऊ एअरपोर्ट पर ही रोक लिया.
इस घटना को लेकर कुछ लोगों द्वारा भ्रम फैलाया जा रहा है. योगी और ममता की तुलना की जा रही हैं लेकिन क्या आप तक ये जानकारी है कि अखिलेश यादव को पहले ही प्रयागराज ना जाने का आग्रह कर दिया गया था…वहां छात्रों में तनाव चल रहा है और प्रयागराज में कुम्भ चल रहा है ऐसे में अगर अखिलेश यादव के जाने माहौल खराब हो जाता है छात्रों के साथ साथ कुम्भ में पहुंचे लाखो लोगों को समस्या का सामना करना पड़ता… ऐसे में क्या ये तानशाही हैं? क्या अखिलेश यादव को रोका जाना गलत था? वहीँ प्रदर्शन कर रहे सपा कार्यकर्ता महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार पर उतर आये हैं. देखिये सपा के प्रदर्शन को कबर करने पहुंची महिला पत्रकार के साथ सपा कार्यकर्ता ने कैसी हरकत की थी.

.. दिन भर चले इस घटना के बाद शाम को सपा कार्यकर्ता हंगामें पर उतर आये और चक्का जाम करने लगे जिसके बाद उन्हें हटाने के लिए पुलिस को जबरदस्त मेहनत करनी पड़ी,,,सपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस की पिटाई कर दी इसके बाद पुलिस ने लाठी चार्ज किया और कार्यकर्ताओं को भगाया..