सैफई में अखिलेश यादव ने छुए चाचा शिवराज के पैर तो कार्यकर्ताओं ने लगा दिए ऐसे नारे कि हो गये नाराज

होली का त्यौहार अभी चल रहा है. इन दिनों दुश्मन भी एक दूसरे के गले लगकर उन्हें बधाई दे देते हैं. ऐसा ही कुछ इस बार सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के घर में पड़ी दरार के बाद देखने को मिला. दरअसल होली के त्यौहार को हिंदू संस्कृति में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है लोग एक दूसरे से गले मिलकर उन्हें बधाई देते हैं और अपनों से बड़े लोगों के पैर छूकर आशीर्वाद लेते हैं. मुलायम सिंह के छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव पिछले काफी समय से अखिलेश से नाराज चल रहे हैं.

जानकारी के लिए बता दें होली के दौरान जब अखिलेश और चाचा शिवपाल एक मंच पर मौजूद नजर आए. सैफई में आयोजित होली मिलन समारोह के दौरान मुलायम सिंह यादव के साथ रामगोपाल यादव भी मौजूद थे. इस दौरान पूरा मुलायम परिवार एक साथ मंच पर मौजूद था. जैसे ही शिवपाल यादव मंच पर पहुंचे तो पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने उनके पैर छुए, फिर शिवपाल ने भी बड़े भाई रामगोपाल के पैर छुए. अखिलेश यादव के शिवपाल के पैर छूने के बाद कुछ ऐसा हुआ कि अखिलेश को गुस्सा आ गयी.

अखिलेश यादव जैसे ही मंच पर पहुंचे तो उनके समर्थकों ने चाचा-भतीजा जिंदाबाद के नारे लगाना शुरू कर दिया. जिसके बाद अखिलेश यादव को गुस्सा आयी और वो थोड़े असहज हो गये और उन्होंने कार्यकर्ताओं को इशारे में शांत रहने के लिए कहा. उन्होंने कार्यकर्ताओं को कहा कि सीमा पार नहीं करनी चाहिए. अखिलेश ने कहा कि 2022 में उत्तरप्रदेश में समाजवादियों की सरकार बनानी है.

गौरतलब है कि अखिलेश यादव के संबोधन के बाद समर्थकों ने चाचा-भतीजा जिंदाबाद के नारे लगाना शुरू कर दिया. जिसके बाद अखिलेश ने कहा ‘कुछ मर्यादा बनी रहनी चाहिए. सीमा पार नहीं होनी चाहिए. जब बात सीमा से पार करती है तो राजनीति अपना रास्ता देखती है. समाजवादियों ने जो पैमाना तय किया है, उसमें बड़ी-बड़ी सड़कें और बड़े-बड़े अस्पताल हैं. छोटी-मोटी बातों में खुशहाली नहीं है.’ अखिलेश यादव और शिवपाल के बीच पिछले 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान फूट पड़ गयी थी, जिसके बाद शिवपाल ने अपनी अलग प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बना ली थी.