मायावती से ग’ठबंधन टूटने पर अखिलेश यादव ने आखिरकार तोड़ी चुप्पी और कही ये बात

1727

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा हो चुका है. विपक्ष मोदी सरकार पर हमलावर है. जबकि सरकार की तरफ से पलटवार करके कहा जा रहा है कि आलोचना करने वाले काम करके दिखाएँ.आज तक के एक कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मोदी सरकार पर हमला किया वहीँ उन्होंने मायावती के साथ गठबंधन टूटने पर भी खुल कर अपनी बात कही. अखिलेश यादव ने यूपी की राजनीति में जगह बनाने की कोशिश कर रही प्रियंका गाँधी पर भी हमला किया.

अखिलेश यादव से मायावती के साथ राजनिति’क सं’बंधो को लेकर पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम सिर्फ सरकार बनाना नहीं चाहते हैं. हम काम करने के लिए सरकार बनाना चाहते हैं. हमारी सरकार में हुए कामकाज आज भी लोगों के लिए उदाहरण हैं. हमने बीएसपी से गठबं’धन वोटों के बि’खराव को रोकने के लिए किया था. साथ ही इस गठबंध’न से बहुत कुछ सीखने को मिला है.

बातचीत के दौरान अखिलेश ने इशारों इशारों में प्रियंका गाँधी की बस पॉलिटिक्स पर भी निशाना साधा. बिना नाम लिए हमला बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश को किसी से मदद की जरूरत नहीं थी क्योंकि राज्य में 70 हजार बसें हैं. अगर सरकार चाहती तो लोगों को भरोसा दिलाकर इस समस्या का हल निकाला जा सकता था. आरोग्य सेतु ऐप के इस्तेमाल को लेकर जब अखिलेश यादव से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हमारे यहां अभी नेटवर्क अच्छा नहीं है.