एके एंटोनी का राफेल पर दिया बयान उन्ही के 2014 वाले बयान को काटता है

252

भारत के पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटोनी ने राफेल सौदे को लेकर बयान दिया है, उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने राफेल सौदे में देरी की है एंटोनी ने ख़ुद के बारे में कहा कि उन्होंने भी इस सौदे में देरी की थी लेकिन, बड़ी ही सफाई से उन्होंने ख़ुद के फ़ैसले को ‘राष्ट्रहित’ से जोड़ दिया अगर राफेल सौदा उसी समय निपट गया होता तो भारत -पाक तनाव के बीच एहम भूमिका निभाता और शायद आज राहुल गाँधी के पास मोदी सरकार का विरोध करने के लिए कोई मुद्दा ही नहीं होता

एंटोनी का यही बयान उन्ही के द्वारा दिये गए 2014 वाले बयान को काटता है एक निजी चैनल में प्रकाशित एंटोनी ने तब यह स्वीकार किया था कि यूपीए सरकार के पास वित्त की कमी है, जिस कारण वे चालू वित्त वर्ष में राफेल सौदे को आगे नहीं बढ़ा पाएंगे उस समय धन की कमी की बात कहने वाले एंटोनी आज देरी पर राष्ट्रहित का बहाना मार रहे हैं एंटोनी साहब आपने देरी की तो राष्ट्रहित हो गया, किसी ने उसे पूरा कर दिया तो वो राष्ट्रविरोधी हो गया

यूपी यूपीए काल के दौरान इस डील पर काफ़ी सुस्त काम हो रहा था मोदी सरकार ने सारी प्रकिया को पूरा किया इस तरह एक अधूरी डील से एक पूरी डील की तुलना की जा रही है इसके अलावा ऐसे कई प्रोजेक्ट्स हैं जिसे कांग्रेस  द्वारा शुरू किया गया था लेकिन उसे मोदी सरकार के सत्ता संभालने के बाद ही पूरा किया जा सका सालों से नेगोशिएट हो रही राफेल डील में अगर कुछ बदलाव करके उसे पूरा किया गया है तो इसमें दिक्कत क्या है? कांग्रेस ने सबको राफेल के रूप में एक ऐसा हथियार थमा दिया है, जो राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे संवेदनशील मामले के साथ खिलवाड़ है रक्षा मंत्रालय के काग़ज़ात चुराए जा रहे हैं कैग सहित अन्य संवैधानिक संस्थाओं की रिपोर्ट्स की धज्जियाँ उड़ाई जा रही है

क्या बिना बिचोलियों के सौदे का सफलतापूर्वक हो जाना पार्टी को हजम नही हो रहा है? क्या कांग्रेस को इस बात की चिंता सता रही है की राफेल सौदे में कांग्रेस का कोई चाचा भतीजा नही है? दुनिया भर के देश रक्षा जैसे संवेदनशील मुद्दों पर सरकार और सेना के साथ खड़े होते हैं, लेकिन यहाँ एक महत्वकांक्षी रक्षा सौदे को ही राजनीति में घसीट लाया गयाकांग्रेस के किसी चाचा भतीजा के हाथ में 2जी, आदर्श, कॉमनवेल्थ की तरह एक और हीरों की माला हाथ लग सकती थी लेकिन क्या करें सत्ता परिवर्तन ने उन्हें हिला कर रख दिया है अब शायद ये सिर्फ एक सपना ही बन कर रह गया है

ReplyForward