अयोध्या के बाद अब काशी और मथुरा को लेकर शुरू हुई जं’ग, पुराने कानून के खि’लाफ बीजेपी सांसद पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

1064

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन 5 अगस्त को है. जिसमे देश के प्रधानमंत्री मोदी शिरकत करेंगे. पीएम मोदी 5 अगस्त को राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे. जिसको लेकर कई विपक्षी पार्टियों को तकलीफ होने लगी है. लेकिन इन सबके बीच अब बीजेपी से सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने काशी और मथुरा को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी है. स्वामी ने धार्मिक स्थल एक्ट 1991 के खि’लाफ याचिका दायर की है जिसमें कहा गया है कि यह कानून मौलिक अधिकारों का उ’ल्लंघ’न है. 

आपको बता दें कि इससे पहले पीस पार्टी ने भी हिंदू पुजारियों के संगठन की याचिका के खि’लाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी. इस याचिका में पीस पार्टी ने खुद को भी प’क्षकार बनाने की मांग कोर्ट के सामने रखी है. पीस पार्टी ने कोर्ट से आग्रह किया है कि वो मूल याचिका पर कोई भी नोटिस जारी न करें. क्योंकि इससे मुस्लिम समुदाय में एक खौ’फ पैदा हो सकता है.

दरअसल, हिंदू पुजारियों के संगठन ने प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. इस एक्ट में कहा गया कि ‘15 अगस्त, 1947 को जो धार्मिक स्थल जिस सं’प्रदा’य का था वो हमेशा के लिए उसी का रहेगा.’ इसको लेकर पीस पार्टी ने याचिका में कहा है कि याचिकाकर्ता ऐसे धार्मिक स्थलों को नि’शाना बना रहे है जो मुस्लमानो के है. जिसको देखते हुए उन्होंने इस मामले में कोर्ट से प’क्षकार बनाने की मांग की है.याचिका में कहा गया है कि हिन्दू पुजारी संगठन सैकड़ो साल पुराने मामले को अदालत में घसी’टना चाहता है. जिससे देश में त’नाव पैदा हो सकता है.