सऊदी अरब और UAE के बाद अब पाकिस्तान के भरोसेमंद दोस्त क़तर ने दिया उसे जोरदार झटका

1118

पाकिस्तान के दिन अच्छे नहीं चल रहे. पहले तो भारत के खिलाफ उसकी हर चाल उसके ही भरोसेमंद दोस्तों द्वारा नाकाम कर दी गई और अब उसके एक और भरोसेमंद देश ने पाकिस्तान को आर्थिक झटका दिया है. सऊदी अरब और UAE के बाद अब पाकिस्तान को नया झटका क़तर की तरफ से मिला है. क़तर ने पाकिस्तान के कुछ अहम प्रोजेक्ट्स में निवेश करने से साफ़ इनकार कर दिया है. हालाँकि क़तर ने पहले पाकिस्तान के इन्ही प्रोजेट्स में पैसा लगाने की घोषणा की थी. लेकिन अब अचानक से ही क़तर ने पाकिस्तान के सभी महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट्स से हाथ खिंच लिए हैं.

क़तर ने पाकिस्तान के जिन्ना एयरपोर्ट और अलामा इकबाल एयरपोर्ट के मालिकाना हक को लेकर बातचीत की थी. क़तर इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी ने पाकिस्तान के इन दोनों एयरपोर्ट में 40 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने वाली थी ये दोनों ही एयरपोर्ट अभी पाकिस्तान सरकार के अधीन है. क़तर इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी और पाकिस्तान सरकार की इस सिलसिले में बातचीत भी हो चुकी थी. सब कुछ तय हो चुका था. पाकिस्तान पैसे आने की उम्मीद से खुश था लेकिन फिर क़तर ने इन्वेस्टमेंट से इनकार कर दिया.

पाकिस्तान मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान एयरपोर्ट में इन्वेस्टमेंट तो चाहता था लेकिन पार्किंग, रेस्टोरेंट, टक शॉप सर्विसेज को आउटसोर्स करना चाहता था ताकि एयरपोर्ट का ऑपरेशनल कंट्रोल उसी के पास रहे. यही वजह रही क़तर ने इन्वेस्टमेंट से हाथ खिंच लिया. पिछले साल जब इरान खान क़तर के दौरे पर गए थे क़तर ने पाकिस्तान में 3 अरब डॉलर निवेश करने का ऐलान किया था. लेकिन इस झटके ने पाकिस्तान में चल रही विकास परियोजनाओं ककी रफ़्तार पर ब्रेक लगा दिया है.