बंगाल में चुनाव से पहले अब कांग्रेस में शुरू हुई आंतरिक कलह, अधीर रंजन चौधरी ने कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा पर लगाये ये आरोप

पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनावों का ऐलान हो गया. चुनाव आयोग ने घोषणा करते हुए बताया था कि वहाँ 8 चरणों में चुनाव संपन्न होंगे और 2 मई को नतीजे घोषित किए जायेंगे. बंगाल में जैसे जैसे चुनाव का समय नज़दीक आता जा रहा है वैसे वैसे सियासी गलियारों में हलचल तेज होती जा रही है. चुनाव से पहले ही बंगाल में कांग्रेस पार्टी में आंतरिक कलह शुरू हो गयी है.

जानकारी के लिए बता दें एक तरफ तो राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक के बाद एक बड़ा झटका लग रहा है वहीं दूसरी ओर कांग्रेस की अंदरूनी कलह की पोल खुलने के बाद आपस में ही आर पार की जंग शुरू हो गयी है. बंगाल में कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने ISF यानी कि इंडियन सेक्युलर फ़्रंट के साथ गठबंधन को लेकर सवाल उठाए थे.

दरअसल आनंद शर्मा ने कांग्रेस के ISF के साथ गठबंधन को पार्टी की मूल विचारधारा के ख़िलाफ़ बताया था. उन्होंने कहा था कि ‘पार्टी सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई में सिलेक्टिव नहीं हो सकती है. हमें सांप्रदायिकता के हर रूप से लड़ना है.’ उन्होंने कहा ISF जैसी कट्टरपंथी पार्टी के साथ गठबंधन पर चर्चा होनी चाहिए थी. अब आनंद शर्मा पर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने पलटवार करते हुए निशाना साधा है.

ग़ौरतलब है कि अधीर चौधरी ने कहा है कि आनंद शर्मा जो कर रहे हैं उससे बीजेपी को फ़ायदा हो रहा है. उन्होंने आनंद शर्मा पर निशाना साधते हुए 4 ट्वीट किए. पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा ‘सीपीआई (एम) के नेतृत्व वाला वाम मोर्चा पश्चिम बंगाल में धर्मनिरपेक्ष गठबंधन का नेतृत्व कर रहा है जिसका कांग्रेस एक अभिन्न अंग है.’ इसके आगे उन्होंने लिखा ‘कांग्रेस को अपने हिस्से की पूरी सीटें मिलीं. लेफ्ट फ्रंट अपने कोटे से हाल में बने इंडियन सेक्युलर फ्रंट को-आईएसएफ को सीटें दे रहा है. सीपीएम के नेतृत्व वाले गठबंधन को सांप्रदायिक बताने का आपका फैसला सिर्फ बीजेपी की ध्रुवीकरण के एजेंडे को फायदा पहुंचा रहा है.’

Related Articles