फारूक अब्दुल्ला बोले मुसलमानों पर भरोसा जताना शुरू करें वरना अंजाम बुरा होगा

375

देश को सन्न कर देने वाले पुलवामा आतंकी हमले के बाद ..अभी जवानों के शव उनके परिवारों तक पहुंचे भी नहीं..की राजनीति का दौर फिर से शुरू हो गया ..जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने एक टीवी कार्यक्रम में बात करते हुए .. पाकिस्तान और आतंकवाद पर विचार रखे …यहाँ बात करते हुए उन्होंने कश्मीर की समस्या को राजनीति की समस्या बताया… साथ ही कहा.. कि इस समस्या को सुलझाने के लिए सरकार को कश्मीरियों का पहले दिल जीतना होगा.. वही फारूक अब्दुल्ला की मानें तो केंद्र में जब से मोदी सरकार आई है… तब से कट्टरता में बढ़ोतरी देखने को मिली है.. पुलवामा हमले को केंद्र सरकार पर निशाना रखते हुए फारूक ने कहा कि बदले के नाम पर कश्मीरी मुस्लिमों को प्रताड़ित करना बंद किया जाए.. पाकिस्तान को सबक सिखाने से पहले अपने देश की परिस्थितियों को सही करना चाहिए ..और आगे उन्होंने कहा कि मुस्लिम युवकों को लगातार प्रताड़ित किया जाता रहा है… जिसके कारण ये मुश्किलें पैदा हो रही हैं.

लगभग धमकी भरे शब्दों का प्रयोग करते हुए वो यहाँ तक बोल गए कि मुसलमानों पर भरोसा जताना शुरू करें वरना अंजाम बुरा होगा… और कश्मीर में गवर्नर शासन लगने पर फारूक ने कहा कि इससे पत्थरबाजी रुकी है लेकिन जैश-ए-मोहम्मद आगे बढ़ गया है.. पुलवामा घटना के उपर भी सवाल पूछने के अंदाज़ में उन्होंने एक बात कह दी – “पत्थरबाज बेहतर थे या जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी?” और अगर उनकी मानें तो घाटी में गवर्नर शासन पूरी तरह  फेल रहा है, इसलिए घाटी में जनता का शासन होना चाहिए…

इसके बाद अलगाववादी नेताओं से सुरक्षा छिन जाने पर जब उनसे सवाल किया गया ..तो उन्होंने कहा कि सरकार ने ख़ुद ही उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई थी.. जिसे अब छीन लिया गया है… उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि सरकार ने नेश्नल कॉन्फ्रेंस के नेता और कॉन्ग्रेस के नेताओं से भी सुरक्षा छीन ली है… अगर ऐसे ही सबसे सुरक्षा को वापस लिया जाता रहा तो कश्मीर घाटी में तिरंगे को कौन थामेगा? शायद बोलते समय वो भूल गये होंगे की माइनॉरिटीज से आने के बाद भी वो और उनके बेटे दोनों मुख्यमंत्री बने .. मुस्लिम कार्ड खेलते हुए फारूक ने जमकर हमला बोला..

तो आपको ये भी बता दे ..कि हमारे बॉलीवुड के 3 सबसे बड़े सुपरस्टार खान है… जो माइनरटी से आते है… सालों पहले भी हमारे स्टार यूसुफ खान और मोहम्मद रफी ही हुआ करते थे…आप एक भी नाम बता सकते है जो पाकिस्तान की फ़िल्म इंडस्ट्री में जो मैनरटी से आता हो और सुपरस्टार बना हो….हमने माइनरटी से अपने देश का राष्ट्र्पति और उप राष्ट्रपति तक चुन डाला ..इसी भारत ने  मैनरटी से कप्तान तक दिया है दुनिया को…. ये तो सिर्फ चन्द आकंड़े है जो आपको आईना दिखाने के लिए काफी है.. तो कृपा करके अपनी राजनीति के लिए मुस्लिम कार्ड से खेलना बंद कर दीजिये …और हा.. कही का भी आंकड़ा उठा कर देख लीजिये भारत में माइनॉरिटीज सबसे ज्यदा सुरक्षित है.और हमारा देश उन पर भरोसा भी करता है …..तो ऐसी फर्जी नसीहत देना बंद करे ..