क्या? योगी से डर गई AAP करने लगी बैन की गुहार

991

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में बीजेपी ने जीत के लिए पूरी तरह से कमर कस ली है. बीजेपी ने  चुनाव की हवा बदलने की तैयारी के साथ-साथ AAP को भी घेरने की तैयारी कर ली है. बीजेपी ने अपने स्टार प्रचारक को दिल्ली के चुनाव में सही समय पर उनका सही उपयोग किया है. बीजेपी ने 4 दिन के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चुनावी मैदान में उतर दिया है.

कहा जाता है कि योगी बेबाक बोलने के लिए जाने जाते हैं. यही एक वजह है कि अब चुनाव की हवा बदलने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने योगी को मैदान पर उतर कर विपक्षीयों को घेरने की तैयारी कर ली है. अब योगी पूरी तरह से खुल कर चुनाव के मैदान पर बल्लेबाजी कर रहें हैं. योगी के रैली करने से पहले ही कांग्रेस ने इलेक्शन कमीशन से ये गुहार लगाई थी कि योगी को दिल्ली में चुनाव  प्रचार पर बैन लगया जाए, लेकिन ऐसा हो ना सका.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ के दिल्ली में कदम रखते  ही दिल्ली की राजनीति में एक हल-चल सी मच गई है.अभी तक कांग्रेस पार्टी की मांग थी, कि उनके  दिल्ली में चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगया जाए , लेकिन आज AAP ने भी यही मांग की हैं .आम आदमी पार्टी (AAP) ने भी  उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रचार पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है. पिछले कई दिनों से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं के बयान पर आपत्ति जता चुकी ‘AAP’  ने चुनाव आयोग पर समय न देने का भी आरोप लगाया है.

आम आदमी पार्टी के दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रभारी संजय सिंह ने कहा कि “उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बोली से नहीं माने तो गोली से तो मान जाएंगे जैसे बयान दे रहे हैं. दरअसल हार की हताशा में बीजेपी दिल्ली का माहौल बिगाड़कर चुनाव टलवाना चाहती है .”

आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर योगी आदित्यनाथ के चुनाव प्रचार पर तत्काल रोक लगाई जाये और आगे ये भी कहा है कि साथ में उनपर एफआईआर दर्ज कराने की मांग की है. चुनाव आयोग से समय न मिलने पर आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह व अन्य नेता चुनाव आयोग के दफ्तर के बाहर सोमवार को धरना करेंगे.

संजय सिंह ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि पहले तो बीजेपी के दो बड़े केंद्रीय मंत्री दंगे कराने के लिए भड़काऊ भाषण देते हैं, उसके बाद तमंचा कल्चर के लोग निकल कर आते है. खुलेआम बन्दूक लहराते है  और पुलिस के सामने दिल्ली की  सड़कों पर गोलियां चलाते हैं. बीजेपी देश को बांटने की कोशिश कर रही है. ये आरोप सभी विपक्षी पार्टियां बीजेपी पर लगते आ रही हैं जबसे बीजेपी सत्ता में आई है.