दिल्ली में 8 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियाँ मैदान में उतर आयी हैं और जमकर प्रचार-प्रसार कर रही हैं. दिल्ली में होने वाला चुनाव इस समय राजनीति का सबसे बड़ा अखाड़ा बन चुका है. पूरे देश की नजरें इस समय चुनाव पर टिकी हुई है. बीजेपी और आम आदमी पार्टी में इस चुनाव में कांटे की टक्कर बताई जा रही है.

जानकारी के लिए बता दें दिल्ली के इस विधानसभा चुनाव में 104 ऐसे उम्मीदवार हैं जिनके खिलाफ अपराधिक मामले दर्ज हैं. सबसे बड़ी बात ये है कि 104 उम्मीदवारों में से सबसे ज्यादा आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार हैं जिनपर अपराधिक मामले दर्ज हैं. साफ़ स्वच्छ छवि नेताओं की बात करने वाले सीएम केजरीवाल की पार्टी ने 36 ऐसे उमीदवार उतारे हैं जिनपर अपराधिक मामले दर्ज हैं.

अगर हम साल 2015 की बात करें तो गंभीर अपराधिक मामले वाले कुल उम्मीदवारों का आंकड़ा 74 था. ADR ने अपनी एक रिपोर्ट जारी कर इस बात का खुलासा किया है. ADR के अनुसार “2015 दिल्ली विधानसभा चुनाव में, कुल 673 उम्मीदवारों में से 114 (17 प्रतिशत) के खिलाफ आपराधिक मामले थे.”

गौरतलब है कि इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में 70 में से 36 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनपर गंभीर अपराधिक मामले दर्ज हैं, भाजपा के 67 उम्मीदवारों में से 26 उम्मीदवार और कांग्रेस के 66 उम्मीवारों में से 18 उम्मीदवारों के खिलाफ अपराधिक मामले दर्ज हैं. “बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के 66 उम्मीदवारों में से कुल 12 (18 प्रतिशत) और राकांपा के पांच में से तीन (60 प्रतिशत) ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों का अपने शपथपत्र में उल्लेख किया है.”