जीत के बाद इन मुद्दों पर काम करेगी NDA सरकार

739

लोकसभा चुनाव 2019 के लगभग नतीजें सामने आ गए हैं…. और 2014 से काफी बेहतर परिणाम इस बार आया है… अब इसके बाद बीजेपी का अगला कदम क्या होगा? … कुछ ऐसे मुद्दें है जिनपर पिछले चुनाव के बाद बीजेपी पूर्णरूप से काम नहीं कर पाई थी…. काम ना कर पाने का मतलब यह बिलकुल नहीं की बीजेपी ने पहल नहीं कि थी… दरअसल राज्य सभा में अल्पमत या कम सीट होने के कराण काम रुक गया था और कुछ काम एनी वजहों की कारण … वैसे 2014 के मीनिफेस्टो में से बहुत से वादें पुरे हुए … जिनमें से कुछ अहम मुद्दों का परिणाम है  डिजिटल इंडिया,  स्वच्छ भारत, स्किल इंडिया, सौचालय निर्माण , एफडीआई , gst और बहुत कुछ … लेकिन कुछ मुद्दें हैं जो अधूरे रह गए है… जिनको सरकार को अब  पूरा करना है…

राज्य सभा में 245 सीट्स हैं… जिनमें से 2018 में हुए राज्य सभा इलेक्शन के बाद बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी… और बीजेपी के पास 58 सीट्स आईं थीं और कांग्रेस के पास 57… भले बीजेपी के पास पूर्ण बहुमत नहीं है लेकिन चुनाव में बहुमत मिली थी . … और अब इस जीत के बाद कहीं न कहीं बीजेपी को राज्य सभा में लाभ होगा … वैसे आपको बता दें की किन मुद्दों पर बीजेपी आगे काम कर सकती है …

सबसे पहले तो जो मुद्दा राज्य सभा में फंसा हुआ है “तीन तलक”… बीजेपी पहले उसको पास कराने का काम करेगी… क्योंकि तीन तलाक बिल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए एक अहम विधेयक है जिसे वे तमाम रैलियों केंद्र सरकार की उपलब्धि और नारी सशक्तिकरण की दिशा में बहुत बड़ा कदम बताते रहे हैं…… और जब जनता ने इतना विश्वास दिखाया है तब सरकार भी इस बिल को दुबारा से लाएगी और राज्य सभा से पास करवाने की कोशिश करेगी …

वैसे आपको बता दें कि राज्य सभा के  अंतिम सत्र तक NDA के पास 86 सांसद थें, जिसमें बीजेपी के 73, जेडीयू के 6, शिवसेना के 3, अकाली दल के 3 और आरपीआई के 1 सांसद शामिल थे. वहीं विपक्ष की बात करें तो कांग्रेस के 50, समाजवादी पार्टी के 13, टीएमसी के 13, सीपीएम के 5, एनसीपी के 4, एनसीपी के 4, बीएसपी के 4, सीपीआई के 2 और पीडीपी के 2 सांसद शामिल थे … विपक्ष के पास 97 सीटें थी… जिस वजह से 3 तलाक बिल पास नहीं हो पाया था…

वहीं जो दूसरा बड़ा कदम सरकार उठाएगी वो होगी धारा 370 को हटाने की …2014 के चुनाव में ही पीएम मोदी ने यह कहा था कि आखिर इस धारा से आम कश्मीरियों को कितना फायदा पहुंचा…. जिसके बाद राजनीतिक दलों ने तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दी थी…. कई राजनीतिक दल इस धारा को हटाने की मांग करते रहे हैं….

और अब इस चुनाव के जीत के बाद शायद सरकार इस मुद्दे पर भी काम करेगी …वैसे आपको बतादें कि धारा 370 हमारे संविधान का TEMPORARY पार्ट का हिस्सा है.. जिसे आसानी से बदला जा सकता है … लेकिन जम्मू कश्मीर के विधान सभा में भी इसे पास होना होगा…

 अब जो तीसरा अहम मुद्दा है जिसपर सबकी निगाहें है राम लल्ला जन्म भूमि विवाद… जो की  चुनाव का एक ख़ास मुद्दा रहा है वो भी 2014 से…

राम जन्म भूमि विवाद में बाबरी मस्जिद और निर्मोही अखाडा भी शामिल है…जिसकी वजह से सुप्रीम कोर्ट में ये यह मामला अटका हुआ है… अलाहाबाद कोर्ट ने तीनों को बराबर से जमीन का बटवारा करने का आदेश  दे दिया था … लेकिन फिर भी यह मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा…..

अब कहीं न कहीं राम मंदिर निर्माण के लिए जनता सरकार की पहल चाहती है.. और सरकार के पास भी अब एक मौका है कि राम लल्ला के लिए मंदिर बनवा सके…

इसके बाद जो मुद्दा आता है 2014 के मेनिफेस्टो से वो है पुरे देश को बुलेट ट्रेन से जोड़ने का…इसकी पहल तो हो चुकी है मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट भारत के विकास पर एक अच्छा असर डालेगा…. जब यह प्रोजेक्ट पूरा हो जाएगा तो रेलवे की तकनीक विश्व स्तर का हो जाएगा….. 125 करोड़ आबादी वाले भारत देश में बुलेट ट्रेन एक ऐसा सपना है जो जल्द ही हकीकत में तब्दील हो जाएगा…

मोदी सरकार ने यह तय किया था  कि 2023 की जगह बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट को 15 अगस्त 2022 तक पूरा कर दिया जाएगा. इस प्रोजेक्ट को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए भारत और जापान दोनों ही मिलकर अपनी पूरी ताकत लगाए हुए है … और इसके बाद भारत के एनी हिस्सों में भी बुलेट ट्रेन दौड़ेगी….

औरजो एक आखिरी और अहम मुद्दा है हमारे समझ से वो है AIMS का मुद्दा …

पिछले चुनाव में पार्टी के मेनीफेस्टो में यह था कि हर राज्य में AIMS की स्थापना की जाएगी… वैसे आपको एक बात बता दें की आज तक भारत में केवल 11 एम्स हैं … जिनमें से 9 कांग्रेस के कार्यकाम में बनाए गए थे… वहीँ बीजेपी के केवल 5 साल के कार्यकाल में 3 एम्स का निर्माण हुआ है … वो हैं गोरखपुर, नागपुर और मंगलगिरी …  और कई जगहों पर एम्स प्रोजेक्ट चल रहा है … आशा है कि  अगले 5 सालों में भी और जगहों पर एम्स का निर्माण होगा..