जम्मू कश्मीर में तैनात जवानों के लिए 40 हजार स्वेदशी बुलेटप्रूफ जैकेट्स भेजी गईं, AK-47 भी होगा बेअसर!

397

पिछले काफी समय से ऐसी खबरें सामने आ रही थी कि भारतीय सेना के जवानों के पास सुरक्षा कवच यानी कि बुलेट प्रूफ के या तो है नही या फिर भारी किल्लत नही है.. बुलेट प्रूफ ना होने या फिर उसकी गुणवत्ता खराब होने की वजह से कई जवानों और अधिकारीयों ने अपनी जाने गवाईं हैं लेकिन अब शायद ही ऐसा हो.


दरअसल भारतीय सेना को पहली बार देश में बनी 40 हजार बुलेटप्रूफ जैकेट्स की आपूर्ति की गई है. जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन में जुटे सैनिकों को इन जैकेट्स की पहली खेप उपलब्ध करवाई जाएगी. जानकारी के मुताबिक़ एसएमपीपी प्राइवेट लिमिटेड की तरफ से बताया गया है कि वे सेना को समय से पहले ही पूरा ऑर्डर प्रदान करा देंगे. सरकार द्वारा यह ऑर्डर पूरा करने के लिए कंपनी को 2021 तक की तारीख दी है, लेकिन कंपनी द्वारा 2020 के अंत तक सारी जैकेट्स बन कर तैयार हो जाएंगी. इन जैकेटों को बोरॉन कार्बाइड सेरेमिक से तैयार किया गाय है, जो कि सुरक्षा के लिए सबसे हल्का और बेहतरीन मैटेरियल है. बताया जा रहा है कि मॉड्यूलर पार्ट्स से बनी होने के कारण ये काफी लचीली हैं और पहनने में आसान तथा सुविधाजनक भी हैं. ये जैकेट जवानों के शरीर को 360 डिग्री सुरक्षा देगी, जिससे युद्ध और एंटी टेरर ऑपरेशन में भी इनका इस्तेमाल किया जाएगा.

जैसा कि आपने सुना होगा कि देश के प्रधानमंत्री मोदी कई बार इस बात का जिक्र कर चुके हैं कि देश के जवानों के पास अत्याधुनिक हथियार, बुलेटप्रूफ जैकेट जैसी आवश्यक चीजे या तो थी ही नही या फिर भारी कमी थी.. पिछले साल ही रक्षा मंत्रालय ने सेना को आधुनिक और हल्की बुलेटप्रूफ जैकेट्स मुहैया कराने के लिए एसएमपीपी SMPP के साथ 639 करोड़ रुपये का सौदा किया था. इस सौदे के तहत सेना को 1.86 लाख उच्च स्तरीय जैकेट्स प्रदान की जानी है. देश में बनने वाली यह जैकेट हार्ड स्टील से बनी गोलियां झेल सकती है. यानी एके -47 और कई अन्य हथियार इस पर बेअसर होंगे. जल्द ही इन्हें जम्मू-कश्मीर भेजा जाएगा. वहां तैनात जवानों को मुहैया करवाए जायेंगे. दरअसल जम्मू कश्मीर में सेना के जवानों को इसकी जरूरत सबसे ज्यादा होती है क्योंकि आतंकी हमले ज्यादा होते हैं. ऐसे में सेना के जवानों को खुद की सुरक्षा के लिए ये जैकेट जरूरी थे.कश्मीर में सेना all आउट ऑपरेशन चला रही है जिसमें आतंकियों का खात्मा किया जा रहा है.
 जवानों को सुरक्षा और उनकी जरूरतों पर ध्यान देने के लिए मोदी सरकार काम कर रही है. देश की सुरक्षा के लिए भी भारत सरकार उचित व्यवस्था कर रही है. हमारे जवान विषम परिस्थियों में भी देश की सुरक्षा में तैनात रहते हैं और उनकी सुरक्षा के लिए सरकार को प्रतिबद्ध होना चाहिए और इसी दिशा में काम कर रही है मोदी सरकार !

कुछ साल पहले की बात है जब भारतीय सेना के पास बुलेट प्रूफ जैकेट की कमी थी लेकिन अब हालात बिल्कुल बदल गए हैं. भारत अब न केवल वैश्विक मानकों के बुलेटप्रूफ जैकेट बना रहा है बल्कि विश्व के 100 से अधिक देशों को इसका निर्यात भी कर रहा है. मानक संस्था ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) के मुताबिक अमेरिका, ब्रिटेन और जर्मनी के बाद भारत चौथा देश है, जो राष्ट्रीय मानकों पर ही अंतरराष्ट्रीय स्तर की बुलेटप्रूफ जैकेट बनाता है.

इन जैकेट्स की विशेषता है कि यह 360 डिग्री सुरक्षा, डायनैमिक वेट डिस्ट्रीब्यूशन जैसी विशेषता से लैस हैं. बीआईएस के उप निदेशक राजेश बजाज ने एक कार्यक्रम के दौरान बताया, ‘मैं समझता हूं कि बुलेटप्रूफ जैकेट भारत में न केवल तैयार और खरीदे जा रहे हैं बल्कि बीआईएस मानकों के अनुसार 100 अन्य देशों में भी बेचे जा रहे हैं.’