‘CAA के नाम पर मुसलमानों को भड़का रही है कांग्रेस’, कहकर 4 कांग्रेस नेताओं ने दिया इस्तीफ़ा

35548

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) को निशाना बनाकर कांग्रेस बेशक भाजपा को घेरने की कोशिशें कर रही है मगर कॉन्ग्रेस के भीतर ही अब CAA को लेकर मतभेद सामने नजर आने लगे हैं. इन्हीं अंदरूनी मतभेदों और विरोध के चलते पार्टी स्टैंड के विरोध में गोवा कांग्रेस के चार बड़े नेताओं ने पार्टी हाईकमान को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. कांग्रेस पर इन नेताओं ने अल्पसंख्यकों विशेषकर, मुसलमानों को बरगलाने का आरोप लगाया है.

चलिए आपको बताते हैं कि आखिर ये इस्तीफा देने वाले नेता हैं कौन, इन नेताओं में पणजी कॉन्ग्रेस ब्लॉक समिति के अध्यक्ष प्रसाद अमोनकर, उत्तर गोवा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ प्रमुख जावेद शेख, ब्लॉक समिति सचिव दिनेश कुबल और नेता शिवराज तारकर शामिल रहे हैं, ये वो नेता हैं जो CAA पर कांग्रेस के स्टैंड से खुश नहीं थे इसलिए कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद इन लोगों ने कहा कि वे सीएए का खुलकर समर्थन भी करते हैं.

पत्रकार वार्ता के दौरान इन नेताओं ने इस्तीफ़ा सौंपने कि वजहें बताते हुए कुछ खास बातें कहीं, उन्होंने कहा कि हम लोग सीएए और एनआरसी पर पार्टी के गलत स्टैंड का पुरजोर विरोध करते हैं. कांग्रेस को नसीहत देने के लहजे में नेताओं ने कहा- ‘’विपक्ष में होने का मतलब यह नहीं होता कि केंद्र में मौजूद सरकार के प्रत्येक काम का विरोध किया जाए. कांग्रेस समेत पूरे विपक्ष को नागरिकता संशोधन कानून का स्वागत करना ही चाहिए’’.

इसी दौरान कॉन्ग्रेस नेताओं ने एक वाकया बताते हुए कहा कि पिछले हफ्ते नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के ख़िलाफ़ गोवा में किये गए एक कार्यक्रम का वे सभी लोग हिस्सा बने हुए थे. लेकिन, वहाँ कांग्रेस के कुछ और नेताओं के भाषण सुनने के बाद उन्हें महसूस हुआ जैसे कि वे CAA के नाम पर भारत के अल्पसंख्यकों के दिमाग में डर भर देना चाहते हैं जो कि किसी भी लिहाज से बिलकुल ही गलत काम है.